23/10/15

बेखुदी मे सनम Bekhudi Mein Sanam: हसीना मान जाएगी

बेखुदी मे सनम
 Bekhudi Mein Sanam:
 हसीना मान जाएगी
 lata rafi

   SOng

बेखुदी मे सनम उठ गए जो कदम,
आ गए, आ गए,
आ गए पास हम, आ गए पास हम...


बेखुदी मे सनम उठ गए जो कदम
आग यह कैसी मनन मे लगी है
मन से बढ़ी तो तन मे लगी है


आग नही यह दिल की लगी है
जितनी बुझाई, उतनी जली है


दिल की लगी ना हो तो क्या ज़िन्दगी है
साथ हम जो चले मिट गए फासले


आ गए, आ गए
आ गए पास हम, आ गए पास हम


बेखुदी मे सनम उठ गए जो कदम
खोयी नज़र थी, सोये नज़ारे
देखा तुम्हे तो जागे यह सारे


दिल ने किये जो दिल को इशारे
मिलके चले हम साथ तुम्हारे


आज ख़ुशी से मेरा दिल यह पुकारे
तेरा दामन मिला, प्यार मेरा खिला



आ गए, आ गए
आ गए पास हम, आ गए पास हम


बेखुदी मे सनम उठ गए जो कदम
दिल की कहानी पहोचे जुबा तक
किसको खबर अब पहोचे कहा तक


प्यार के राही आये यहा तक
जायेगे दिल की हद है जहा तक


तुम पास जो तो चले हम आसमान तक
दिल मे अरमान लिए लाख तूफ़ान लिए


आ गए, आ गए
आ गए पास हम, आ गए पास हम
बेखुदी मे सनम उठ गए जो कदम...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें