बुधवार, 14 अक्तूबर 2015

हमने जग की अजब तस्वीर देखी hamne jag ki ajab tasveer dekhi-शंकर सीता अनुसूया


hamne jag ki ajab tasweer dekhee

हमने जग की अजब तस्वीर देखी

शंकर सीता अनुसूया

प्रदीप


               गीत 

हमने जग की अजब तस्वीर देखी
एक हँसता है दस रोते हैं
ये प्रभु की अद्भुत जागीर देखी
एक हँसता है दस रोते हैं


हमे हँसते मुखड़े चार मिले
दुखियारे चेहरे हज़ार मिले
यहाँ सुख से सौ गुनी पीड़ देखी
एक हँसता है दस रोते हैं
हमने जग की अजब तस्वीर देखी
एक हँसता है दस रोते हैं


दो एक सुखी यहाँ लाखों में

आंसू है करोड़ों आँखों में
हमने गिन गिन हर तकदीर देखी
एक हँसता है दस रोते हैं
हमने जग की अजब तस्वीर देखी
एक हँसता है दस रोते हैं


कुछ बोल प्रभु ये क्या माया
तेरा खेल समझ में ना आया
हमने देखे महल रे कुटीर देखी
एक हँसता है दस रोते हैं
हमने जग की अजब तस्वीर देखी
एक हँसता है दस रोते हैं


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें