30/3/16

ए मेरे दिल कहीं और चल //Aye Mere Dil Kahin Aur Chal - Daag - Talat Mahmood

ए मेरे दिल कहीं और चल ,
 Aye Mere Dil Kahin Aur Chal,
फिल्म-दाग ,
Talat Mahmood
          गाना
ऐ मेरे दिल कहीं और चल
ग़म की दुनिया से दिल भर गया
ढूँढ ले अब कोई घर नया
ऐ मेरे दिल कहीं और चल

चल जहाँ गम के मारे न हों
झूठी आशा के तारे न हों
झूठी आशा के तारे न हों
इन बहारों से क्या फ़ायदा
जिस में दिल की कली जल गई
ज़ख़्म फिर से हरा हो गया
ऐ मेरे दिल कहीं और चल
चार आँसू कोई रो दिया
फेर के मुँह कोई चल दिया
फेर के मुँह कोई चल दिया
लुट रहा था किसी का जहाँ
देखती रह गई ये ज़मीं
चुप रहा बेरहम आसमां
ऐ मेरे दिल कहीं और चल

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें