मंगलवार, 1 मार्च 2016

तुझ मे रब दिखता है


तुझ मे रब दिखता है  

 रब ने बना दी जोड़ी (2008)
Music  सलीम सुलेमान
Lyrics  जयदीप सैनी
रूप कुमार राठोड़, श्रेया घोषाल


    SONG

रूप कुमार राठोड़
तू ही तो जन्नत मेरी, तू ही मेरा जूनून
तू ही तो मन्नत मेरी, तू ही रूह का सुकून
तू ही अंखियों की ठंडक, तू ही दिल की है दस्तक
और कुछ ना जानूं, मैं बस इतना ही जानूं
तुझमें रब दिखता है, यारा मैं क्या करूँ
सजदे सर झुकता है, यारा मैं क्या करुँ

कैसी है ये दूरी, कैसी मजबूरी
मैंने नज़रों से तुझे छू लिया
कभी तेरी खुशबू, कभी तेरी बातें
बिन मांगे ये जहाँ पा लिया
तू ही दिल की है रौनक, तू ही जन्मों की दौलत
और कुछ ना जानूं, बस इतना ही जानूं
तुझमें रब दिखता है, यारा मैं क्या करूँ...

छम छम आए, मुझे तरसाए
तेरा साया छेड़ के चूमता..
तू जो मुस्काए, तू जो शरमाये
जैसे मेरा है खुदा झूमता..
तू मेरी है बरकत, तू ही मेरी इबादत
और कुछ ना जानूं, बस इतना ही जानूं
तुझमें रब दिखता है, यारा मैं क्या करूँ...


श्रेया घोषाल
ना कुछ पूछा, ना कुछ माँगा
तूने दिल से दिया जो दिया
ना कुछ बोला, ना कुछ तोला
मुस्कुरा के दिया जो दिया
तू ही धूप, तू ही छाया
तू ही अपना पराया
और कुछ ना जानूँ
बस इतना ही जानूँ
तुझमें रब दिखता है
यारा मैं क्या करूँ
सजदे सर झुकता है
यारा मैं क्या करूँ
रब ने बना दी जोड़ी

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें