22/3/16

दुखी मन मेरे सुन मेरा कहना DUKHI MAN MERE , SUN MERA KEHNA-FUNTOOSH (1956)-SAHIR - KISHORE KUMAR-S ...


दुखी मन मेरे सुन मेरा कहना 
फंटूश 
१९५६
 गायक: किशोर
 गीत: साहिर
 संगीत: सचिन देव बर्मन


                                गाना

दुखी मन मेरे सुन मेरा कहना जहां नहीं चैना वहां नहीं रहना
दुखी मन मेरे, सुन मेरा कहना
जहाँ नहीं चैना, वहां नहीं रहना

दर्द हमारा कोई न जाने, अपनी गरज के सब हैं दीवाने
किस के आगे रोना रोये, देस पराया लोग बेगाने

लाख यहाँ झोली फैला ले, कुछ नहीं देंगे इस जगवाले
पत्थर के दिल मोम ना होंगे, चाहे जितना नीर बहा ले

अपने लिए कब हैं ये मेले, हम हैं हर एक मेले में अकेले
क्या पायेगा उस में रह कर, जो दुनियाँ जीवन से खेले


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें