7/3/16

एक दिन बिक जाएगा माटी के मोल Ek Din Bik Jaayega Mati Ke Mol - Raj Kapoor - Dharam Karam - Bollywood P...

एक दिन बिक जाएगा माटी के मोल
Ek Din Bik Jaayega Mati Ke Mol 
 Dharam Karam 
मुकेश,
mukesh 

   SONG
इक दिन बिक जाएगा, माटी के मोल
जग में रह जाएंगे, प्यारे तेरे बोल
दूजे के होंठों को, देकर अपने गीत
इक दिन बिक जायेगा ...
कोई निशानी छोड़, फिर दुनिया से डोल
ला ला ललल्लल्ला
ये बिरहा ये दूरी, दो पल की मजबूरी
अनहोनी पग में काँटें लाख बिछाए
होनी तो फिर भी बिछड़ा यार मिलाए
बहती धारा बन जा, फिर दुनिया से डोल
फिर कोई दिलवाला काहे को घबराये, तरम्पम,
धारा, तो बहती है, बहके रहती है
एक दिन ...
भोर होने वाली है अब रैना है थोड़ी, तरम्पम,
परदे के पीछे बैठी साँवली गोरी
थाम के तेरे मेरे मन की डोरी
ये डोरी ना छूटे, ये बन्धन ना टूटे
एक दिन ...
सर को झुकाए तू, बैठा क्या है यार
गोरी से नैना जोड़, फिर दुनिया से डोल

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें