1/3/16

चदरिया झीनी झीनी रे Judaai| Badlapur(film),2015 |

चदरिया झीनी झीनी रे
 2015, 
 जुदाई,
 फिल्म बदलापुर
 चदरिया झीनी रे झीनी,
 badalapur, 
 chadariya jhini jhini re,
 judai

     SONG 
रांझन ढूंडन मैं चलेया, रांझन मिलिया ना ए
जिगरा विचो अगन लगा के रब्बा लकिरा विच लिख दी जुदाई

खो गया गुम हो गया वक्त से चुराया था जो अपना बनाया था
हो तेरा वो मेरा साथ निभाया था जो अपना बनाया था
चदरिया झीनी रे झीनी, चदरिया झीनी रे झीनी
आँखें भीनी ये भीनी ये भीनी
यादें झीनी रे झीनी रे झीनी
चदरिया झीनी रे झीनी, चदरिया झीनी रे झीनी
आँखें भीनी ये भीनी ये भीनी
यादें झीनी रे झीनी रे झीनी

ऐसा भी क्या मिलना साथ होके तनहा
ऐसी क्यू सजा हमने है पाई राँझना वे
फिर से मुझे जीना तुझपे है मरना
फिर से दिल ने दी है ये दुहाई सजना वे
लकीरों पे क्यू लिख दी क्यु जुदाई
गैर सा हुआ खुद से भी ना कोई मेरा
दर्द से कर ले चल यारी दिल ये केह रहा
खोलू जो बाहें बस गम ये सिमट रहे है
आँखों के आगे लम्हे ये क्यु घट रहे है
जाने कैसे कोई सेहता जुदाइया
चदरिया झीनी रे झीनी, चदरिया झीनी रे झीनी
आँखें भीनी ये भीनी ये भीनी
यादें झीनी रे झीनी रे झीनी
चदरिया झीनी रे झीनी, चदरिया झीनी रे झीनी
आँखें भीनी ये भीनी ये भीनी
यादें झीनी रे झीनी रे झीनी
रांझन ढूंडन मैं चलेया, रांझन मिलिया ना ए
जिगरा विचो अगन लगा के रब्बा लकिरा विच लिख दी जुदाई
रांझन ढूंडन मैं चलेया, रांझन मिलिया ना ए
जिगरा विचो अगन लगा के रब्बा लकिरा विच लिख दी जुदाई


खो गया गुम हो गया वक्त से चुराया था जो अपना बनाया था
हो तेरा वो मेरा साथ निभाया था जो अपना बनाया था
चदरिया झीनी रे झीनी, चदरिया झीनी रे झीनी
आँखें भीनी ये भीनी ये भीनी
यादें झीनी रे झीनी रे झीनी
चदरिया झीनी रे झीनी, चदरिया झीनी रे झीनी
आँखें भीनी ये भीनी ये भीनी
यादें झीनी रे झीनी रे झीनी

ऐसा भी क्या मिलना साथ होके तनहा
ऐसी क्यू सजा हमने है पाई राँझना वे
फिर से मुझे जीना तुझपे है मरना
फिर से दिल ने दी है ये दुहाई सजना वे
लकीरों पे क्यू लिख दी क्यु जुदाई
गैर सा हुआ खुद से भी ना कोई मेरा
दर्द से कर ले चल यारी दिल ये केह रहा
खोलू जो बाहें बस गम ये सिमट रहे है
आँखों के आगे लम्हे ये क्यु घट रहे है
जाने कैसे कोई सेहता जुदाइया
चदरिया झीनी रे झीनी, चदरिया झीनी रे झीनी
आँखें भीनी ये भीनी ये भीनी
यादें झीनी रे झीनी रे झीनी
चदरिया झीनी रे झीनी, चदरिया झीनी रे झीनी
आँखें भीनी ये भीनी ये भीनी
यादें झीनी रे झीनी रे झीनी
रांझन ढूंडन मैं चलेया, रांझन मिलिया ना ए
जिगरा विचो अगन लगा के रब्बा लकिरा विच लिख दी जुदाई

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें