31/3/16

ओ मेरे सोना रे सोना रे O Mere Sona Re

गीतकार : मजरुह सुलतानपुरी,
गायक : आशा भोसले - मोहम्मद रफी,
संगीतकार : राहुलदेव बर्मन,
 Lyricist : Majrooh Sultanpuri,
Singer : Asha Bhosle - Mohammad Rafi,
Music Director : Rahuldev Burman
Singer : Asha Bhosle - Mohammad Rafi,
1966
             गाना 
ओ मेरे सोना रे, सोना रे, सोना रे
दे दूंगी जान जुदा मत होना रे
मैंने तुझे ज़रा देर में जाना


हुआ कुसूर खफ़ा मत होना रे
ओ मेरे सोना रे...

ओ मेरी बाँहों से निकलके
तू अगर मेरे रस्ते से हट जाएगा
तो लहराके, हो बलखाके
मेरा साया तेरे तन से लिपट जाएगा
तुम छुड़ाओ लाख दामां
छोड़ते हैं कब ये अरमां
कि मैं भी साथ रहूँगी, रहोगे जहाँ
ओ मेरे सोना रे...

ओ मियां हमसे न छिपाओ
वो बनावट की सारी अदाएं लिये
कि तुम इसपे हो इतराते
कि मैं पीछे हूँ सौ इल्तिज़ाएं लिये
जी मैं खुश हूँ, मेरे सोना


झूठ है क्या, सच कहो ना
कि मैं भी साथ रहूँगी, रहोगे जहाँ
ओ मेरे सोना रे...

ओ फिर हमसे न उलझना
नहीं लट और उलझन में पड़ जाएगी
ओ पछताओगी कुछ ऐसे
कि ये सुरखी लबों की उतर जाएगी
ये सज़ा तुम भूल न जाना
प्यार को ठोकर मत लगाना
के चला जाऊंगा फिर मैं न जाने कहाँ
ओ मेरे सोना रे..

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें