गुरुवार, 31 मार्च 2016

पर्दे मे रहने दो Parde Mein Rehne Do - Asha Parekh, Dharmendra - Shikar

 पर्दे में रहने दो, पर्दा न उठाओ
parde me.n rahane do, pardaa na uThaao
Film: Shikaar
 शंकर - जयकिशन-
आशा भोसले
1968
           SONG
पर्दे में रहने दो,पर्दा न उठाओ
पर्दा जो उठ गया तो भेद खुल जायेगा
अल्लाह मेरी तौबा, अल्लाह मेरी तौबा ...
मेरे पर्दे में लाख जलवे हैं
कैसे मुझसे नज़र मिलाओगे
जब ज़रा भी नक़ाब उठाऊँगी
याद रखना की, जल ही जाओगे
हुस्न जब बेनक़ाब होता है 
पर्दे में रहने दो,पर्दा न उठाओ>
वो समाँ लाजवाब होता है 
हाय जिसने मुझे बनाया है, 
खुद को खुद की खबर नहीं रहती 
होश वाला भी, होश खोता है 
पर्दे में--
पर्दे में रहने दो,पर्दा न उठाओ ... 
इन फ़रिश्तों ने, सर झुकाया है

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें