30/3/16

वो ज़ालिम प्यार क्या जामे vo jalim pyaar kyaa jaane Talat Mahmood

वो ज़ालिम प्यार क्या जामे
vo jalim pyaar kyaa jaane
Talat Mahmood
फिल्म-परछाईं
                        गाना
मुहब्बत ही न जो समझे, वो ज़ालिम प्यार क्या जाने
निकलती दिल के तारों से, जो है झंकार क्या जाने
मुहब्बत ही न जो समझे ...

गला किसका कटा क्यूँकर कटा तलवार क्या जाने
उसे तो क़त्ल करना और तड़पाना ही आता है
मुहब्बत ही न जो समझे ...


दवा से फ़ायदा होगा कि होगा ज़हर ए क़ातिल से मज़र् की क्या दवा है ये कोई बीमार क्या जाने मुहब्बत ही न जो समझे ... करो फ़रियाद सर टकराओ अपनी जान दे डालो तड़पते दिल की हालत हुस्न की दीवार क्या जाने मुहब्बत ही न जो समझे

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें