9/3/16

वो पास रहे या दूर रहें नजरों मे समाये रहते हैं// Woh pass rahain ya durr....Bari Behan

 वो पास रहे या दूर रहें नजरों मे 
 Film: Badi Behan
  Music Director: Husnlal-Bhagatram
  Lyricist: Qamar Jalalabadi
  Singer  Suraiyya
                 गाना


वो पास रहें या दूर रहें नज़रों में समाये रहते हैं
 इतना तो बता दे कोई हमें क्या प्यार इसी को कहते हैं 
छोटी सी बात मुहब्बत की और वो भी कही नहीं जाती 
कुछ वो शरमाये रहते हैं कुछ हम शरमाये रहते हैं 
मिलने की घड़ियाँ छोटी हैं और रात जुदाई की लम्बी

 जब सारी दुनिया सोती है हम तारे गिनते रहते हैं 
वो पास रहें या दूर रहें नज़रों में समाये रहते हैं 
इतना तो बता दे कोई हमें क्या प्यार इसी को कहते हैं


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें