31/3/16

ये रातें ये मौसम// Ye Raaten Ye Mausam - Dilli Ka Thug

ये रातें ये मौसम 
 Ye Raten Ye Mausam
 Dilli Ka Thug
Singers: Kishore Kumar , Asha Bhosle
1958

                SONG 
ये रातें, ये मौसम, नदी का किनारा, ये चंचल हवा
 कहा दो दिलों ने, की होंगे न मिल कर, कभी हम जुदा
 ये रातें, ये मौसम, नदी का किनारा, ये चंचल हवा

 ये क्या बात है आज की चांदनी में    \- २
के हम खो गये प्यार की रागिनी में
 ये बाहों में बाहें, ये बहकी निगाहें
लो आने लगा ज़िंदगी का मज़ा
 ये रातें, ये मौसम, नदी का किनारा, ये चंचल हवा

 सितारों की महफ़िल ने करके इशारा
कहा अब तो सारा जहाँ है तुम्हारा
 मुहब्बत जवाँ हो, खुला आसमाँ हो
करे कोई दिल आरज़ू और क्या
 ये रातें, ये मौसम, नदी का किनारा, ये चंचल हवा

 क़सम है तुम्हे तुम अगर मुझसे रूठे  
 रहे सांस जब तक, ये बंधन न टूटे>
 तुम्हें दिल दिया है, ये वादा किया है
सनम मैं तुम्हारी रहूँगी सदा
 ये रातें, ये मौसम, नदी का किनारा, ये चंचल हवा
 कहा दो दिलों ने, की होंगे न मिल कर,
कभी हम जुदा
 ये रातें, ये मौसम, नदी का किनारा, ये चंचल हवा

3 टिप्‍पणियां: