सोमवार, 11 अप्रैल 2016

मैं दिल हूँ एक अरमान भरा main dil hoon ek arman bhara.. anhonee1952 -talat mehmood - Satyendra At...

मैं दिल हूँ एक अरमान भरा,
 main dil hoon ek arman bhara,
अनहोनी ,
1952, 

         song

main dil huun ik aramaan bharaa
tuu aake mujhe pahachaan zaraa
ik saagar huun thaharaa thaharaa
tuu aake mujhe pahachaan zaraa
main dil huun ik aramaan bharaa
kud maine husn ke hathon mein,
shokhii kaa chhalakataa jaam diyaa
gaalon ko gulaabo.n kaa rutabaa,
kaliyon ko labon kaa naam diyaa, naam diyaa
aankhon ko diyaa saagar gaharaa
tuu aake mujhe pahachaan zaraa
ye sach hai, teri mahafil mein,
mere afasaane kuchh bhi nahiin
par dil kii daulat ke aage
duniyaa ke khazaane kuchh bhi nahiin
yuun mujhase nigahon ko na churaa
tuu aake mujhe pahachaan zaraa
ye jhilamil karte hue diye
aakhir ik din bujh jaayenge
daulat ke nashe mein duube hue
ye raag rang mit jaayenge
guunjegaa magar ye giit meraa
ye giit meraa


          हिन्दी मे


मैं दिल हूँ इक अरमान भरा
तू आके मुझे पहचान ज़रा
तू आके मुझे पहचान ज़रा
इक सागर हूँ ठहरा ठहरा
ख़ुद मैने हुस्न के हाथों में,
मैं दिल हूँ इक अरमान भरा
गालों को गुलाबों का रुतबा,
शोखी का छलकता जाम दिया
आँखों को दिया सागर गहरा
कलियों को लबों का नाम दिया, नाम दिया
तू आके मुझे पहचान ज़रा
पर दिल की दौलत के आगे
ये सच है, तेरी महफ़िल में,
मेरे अफ़साने कुछ भी नहीं
दुनिया के खज़ाने कुछ भी नहीं
आखिर इक दिन बुझ जायेंगे
यूं मुझसे निगाहों को ना चुरा
तू आके मुझे पहचान ज़रा
ये झिलमिल कर्ते हुए दिये
दौलत के नशे में डूबे हुए
ये गीत मेरा
ये राग रंग मिट जायेंगे
गूँजेगा मगर ये गीत मेरा

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें