28/4/16

सांस मे तेरी सांस मिली Saans mein teri saans mili

सांस मे तेरी सांस मिली
 Saans mein teri saans mili
जब तक है जान
 2012
 ए.आर.रहमान
 गुलज़ार
 श्रेया घोषाल,

मोहित चौहान

        SONG




सांस में तेरी सांस मिली तो

मुझे सांस आई

रूह ने छू ली जिस्म की खुश्बू
तू जो पास आई



कब तक होश संभाले कोई

होश उड़े तो उड़ जाने दो
दिल कब सीधी राह चला है
राह मुड़े तो मुड़ जाने दो
तेरे ख़याल में डूबके अक्सर
अच्छी लगी तन्हाई
सांस में तेरी...



रात तेरी बाँहों में कटे तो

सुबह बड़ी हलकी लगती है
आँख में रहने लगे हो क्या तुम
क्यूँ छलकी-छलकी लगती है
मुझको फिर से छू के बोलो
मेरी कसम क्या खाई
सांस में तेरी..


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें