शनिवार, 14 मई 2016

मैं वारी वारी जाऊ , कैलाश खेर ,2016

मैं वारी वारी जाऊ ,
 कैलाश खेर 
,2016

SONG



मैं वारी वारी जाऊ मैं वारी वारी
मैं वारी वारी जाऊ मैं वारी वारी
बलिहारी वारी जाऊ मैं वारी वारी
मैं वारी वारी जाऊ मैं वारी वारी


तेरी हाँक भरू, भरू तान पपिहाई
तेरी हाँक भरू, भरू तान पपिहाई
एक पाओ पे उछल मरू, मरू प्राण इतसाई
एक पाओ पे उछल मरू, मरू प्राण इतसाई
जोगन बन बन झुमु, बैरागन बन बन
जोगन बन बन झुमु, बैरागन बन बन
घोल दिशाला चकराऊ, इतराऊ बन ठन
मैं वारी वारी जाऊ मैं वारी वारी
मैं वारी वारी जाऊ मैं वारी वारी
बलिहारी वारी जाऊ मैं वारी वारी
मैं वारी वारी जाऊ मैं वारी वारी


 


अनहद रूप धरु, भरू रंग सतरंगा
अनहद रूप धरु, भरू रंग सतरंगा
हो तेरी मणि से जो चमकू, दमकू मिटे सब शंका
हो तेरी मणि से जो चमकू, दमकू मिटे सब शंका
हो बावल बावल झूमु, मैं चातक बन बन
हो बावल बावल झूमु, मैं चातक बन बन
घोल दिशाला चकराऊ, इतराऊ बन ठन
ए मैं वारी वारी जाऊ मैं वारी वारी
मैं वारी वारी जाऊ मैं वारी वारी
ए मैं वारी वारी जाऊ मैं वारी वारी
मैं वारी वारी जाऊ मैं वारी वारी
मैं वारी वारी जाऊ मैं वारी वारी
बलिहारी वारी जाऊ मैं वारी वारी
मैं वारी वारी जाऊ मैं वारी वारी

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें