शुक्रवार, 6 मई 2016

कोई मेरे दिल में ख़ुशी बनके आया Koi mere dil mein khushi ban ke aaya_Andaz (1949) SERAJ.avi

कोई मेरे दिल में ख़ुशी बनके आया ,
 Koi mere dil mein khushi ban ke aaya,
लता , 
Andaz, 
1949,

SONG
कोई मेरे दिल में ख़ुशी बनके आया
अंधेरा था घर में रौशनी बनके आया
कोई मेरे दिल में...
मोहब्बत की वो ज़िंदगी बन के आया
धड़कता है दिल जाग उठी हैं उमंगें
कोई मेरे दिल में...
वो हर तार की रागिनी बन के आया
मोहब्बत ने छेड़ा है साज़ दिल का
कोई मेरे दिल में...
कोई मेरे दिल में समाया था दिल में जो इक दर्द बनकर
वो होँठों पे मेरी हँसी बन के आया

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें