शुक्रवार, 13 मई 2016

मौला कर रहम, Maula Kar Rahem | Dhara 302 | Javed Ali | Rufy Khan, Dipti Dhotre & Sahi...

मौला कर रहम,
Maula Kar Rahem,
 | Dhara 302,
 2016 
Singer: Javed Aliमौला कर रहम,

     SONG

बेबस ओ मजबूर हूँ, रंज ओ ग़म से चूर हूँ
बेसबब और बेवजह यार से क्यूँ दूर हूँ
मौला यार से क्यूँ दूर हूँ, मेरे मौला मेरे मौला
मेरे मौला मेरे मौला मेरे मौला
मौला तू बता क्यूँ हैं भला मुझसे मेरी किस्मत खफा
ना करार हैं ना सुकून हैं, कैसा इश्क का ये जूनून हैं
मौला मेरे मौला मेरे मौला


मैं भटकता फिरता हूँ दरबदर, मुझे ना रही खुद की खबर
मैं भटकता फिरता हूँ दरबदर, मुझे ना रही खुद की खबर
बरसा दे अब अब्रे करम, बरसा दे अब अब्रे करम
मौला कर रहम, मौला कर रहम, मौला कर रहम
मौला कर रहम, मौला कर रहम, मौला कर रहम


ग़म-ए-इश्क का मारा हूँ मैं, शब-ए-हिज्र से हारा हूँ मैं
ग़म-ए-इश्क का मारा हूँ मैं, शब-ए-हिज्र से हारा हूँ मैं
मौला पूरी कर मेरी मन्नते, हैं तबाह दिल की जन्नते
मैं भटकता फिरता हूँ दरबदर, मुझे ना रही खुद की खबर
कैसे हैं ये रंज-ओ-अलम, कैसे हैं ये रंज-ओ-अलम
मौला कर रहम, मौला कर रहम, मौला कर रहम
मौला कर रहम, मौला कर रहम, मौला कर रहम


मुझे यार का दीदार दे या जीते जी मुझे मार दे
मुझे यार का दीदार दे या जीते जी मुझे मार दे
मेरे दिल की हैं यही इल्तेजा, मौला सुन भी ले मेरी दुआ
मैं भटकता फिरता हूँ दरबदर, मुझे ना रही खुद की खबर
मेरी आहों का रखले भरम, मेरी आहों का रखले भरम
मौला कर रहम, मौला कर रहम, मौला कर रहम
मौला कर रहम, मौला कर रहम, मौला कर रहम

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें