रविवार, 15 मई 2016

दिल दिया है जाँ भी देंगे ए वतन तेरे लिए mera karma tu mera dharma tu

दिल दिया है जाँ भी देंगे ए वतन तेरे लिए 
mera karma tu mera dharma tu

deshbhakti geet 
मेरा कर्म तू मेरा धर्म तू
तेरा सब कुछ मै मेरा सब कुछ तू
हर करम अपना करेगे..

वतन तेरे लिए
दिल दिया है जान भी देंगे ए वतन तेरे लिए
तू मेरा कर्म तू मेरा धर्म तू मेरा अभिमान है
ए वतन महबूब मेरे तुझपे दिल कुर्बान है
हम जियेगे या मरेगे ए वतन तेरे लिए
दिल दिया है जान भी देगे...
हिन्दू मुस्लिम सिख ईसाई हमवतन हमनाम है
जो करे इनको जुदा मज़हब नही इल्जाम है
हम जियेगे या मरेगे...
तेरी गलियो मे चलाकर नफरतो की गोलिया
लूटते है सब लुटेरे दुल्हनो की डोलिया
लुट रहा है आप वो अपने घरो को लूट कर
खेलते है बेखबर अपने लहू से होलिया
हम जियेगे या मरेगे...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें