27/5/16

मुड़ मुड़ के ना देख// Shree 420 - Mud Mud Ke Na Dekh - Manna Dey - Asha Bhonsle

मुड़ मुड़ के ना देख,
श्री ४२० (1955)
Music शंकर जयकिशन
Lyrics शैलेन्द्र
आशा भोंसले, मन्ना डे

     Song 

मुड़-मुड़ के न देख, मुड़-मुड़ के

ज़िंदगानी के सफ़र में 

तू अकेला ही नहीं है
हम भी तेरे हमसफ़र हैं
आये गये मंज़िलों के निशाँ
लहरा के झूमा झुका आसमाँ
लेकिन रुकेगा न ये कारवाँ
मुड़-मुड़ के न देख...


नैनों से नैना जो मिला के देखे
मौसम के साथ मुस्कुरा के देखे
दुनिया उसी की है जो आगे देखे
मुड़-मुड़ के न देख...



दुनिया के साथ जो बदलता जाये

जो इसके साँचे में ही ढलता जाये
दुनिया उसी की है जो चलता जाये
मुड़-मुड़ के न देख...




कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें