15/6/16

तू कितनी अच्छी है Tu Kitni Achchhi Hai Tu Kitni Bholi Hai

तू कितनी अच्छी है , 
 Tu Kitni Achchhi Hai Tu Kitni Bholi Hai,
lata mangeshkar 
राजा और रंक
1968 

       bhajan 

तू कितनी अच्छी है
तू कितनी भोली है
प्यारी-प्यारी है
ओ माँ, ओ माँ
ये जो दुनिया है
ये बन है काँटों का
तू फुलवारी है
ओ माँ, ओ माँ
तू कितनी अच्छी है...


दूखन लागी है माँ तेरी अँखियाँ
मेरे लिए जागी है तू सारी-सारी रतियाँ
मेरी निंदिया पे, अपनी निंदिया भी, तूने वारी है
ओ माँ, ओ माँ
तू कितनी अच्छी है...


अपना नहीं तुझे सुख-दुख कोई
मैं मुस्काया, तू मुस्काई, मैं रोया, तू रोई
मेरे हँसने पे, मेरे रोने पे, तू बलिहारी है
ओ माँ, ओ माँ
तू कितनी अच्छी है...


माँ बच्चों की जां होती है
वो होते हैं क़िस्मत वाले जिनके माँ होती है
कितनी सुन्दर है, कितनी शीतल है, न्यारी-न्यारी है
ओ माँ, ओ माँ
तू कितनी अच्छी है..
.


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें