24/6/17

हम प्यार मे जलने वालों को चैन कहाँ आराम कहाँ




हम प्यार मे जलने वालों को चैन कहाँ आराम कहाँ
,
गायक / Singer(s):,(Lata Mangeshkar)
1958

गाना 

हम प्यार में जलनेवालों को
चैन कहाँ, हाय, आराम कहाँ
हम प्यार में जलनेवालों को ...
 
बहलाये जब दिल ना बहले, तो ऐसे बहलायें
गम ही तो है प्यार की दौलत, ये कहकर समझायें
अपना मन छलनेवालों को, चैन कहाँ, हाय, आराम कहाँ
हम प्यार में जलनेवालों को ...

प्रीत की अंधियारी मंज़िल में, चारों ओर सियाही
आधी राह में ही रुक जाये, इस मंज़िल का राही
काँटों पर चलनेवालों को, चैन कहाँ, हाय, आराम कहा
हम प्यार में जलनेवालों को ...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें