गुरुवार, 20 जुलाई 2017

मैं दर्दों को पास बिठा कर ही सोऊं,सरबजीत (2016),सोनू निगम

फ़िल्म/एल्बम: सरबजीत (2016)
संगीतकार: जीत गांगुली
गीतकार: रश्मि विराग, जानी
गायक/गायिका: सोनू निगम

मैं दर्दों को पास बिठा कर ही सोऊं
जो तुझे लगता बारिश है, वो मैं हूं जो रोऊं
मैं दर्दों को पास बिठा कर ही सोऊं
खुशियों से मिलना भूल गए
तुम इतना क्यूं हमसे दूर गए
कोई किरण इक दिन आएगी
तुम तक हमको ले के जायेगी
मैं राह पे आंख बिछाके ही सोऊं
जो तुझे लगता बारिश है, वो मैं हूं जो रोऊं
मैं दर्दों को पास बिठा कर ही सोऊं
पंख अगर होते, उड़ के चला मैं आता
रुकता न एक पल
क़ैद ये कैसी ख़ुदा, सांस भी रूठी है
सीने में आजकल
मैं दर्दों को पास बिठा कर ही सोऊं

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें