31/7/17

रुक जा रात ठहर जा रे चन्दा-दिल एक मन्दिर


Movie/Album: दिल एक मन्दिर

 (1963)
Music By: शंकर जयकिशन
Lyrics By: शैलेन्द्र
 लता मंगेशकर

Image result for रुक जा रात ठहर जा रे चंदा
         गाना 
रुक जा रात ठहर जा रे चन्दा
बीते ना मिलन की बेला
आज चाँदनी की नगरी में
अरमानों का मेला

पहले मिलन की यादें लेकर
आयी है ये रात सुहानी
दोहराते हैं फ़िर ये सितारे
मेरी तुम्हारी प्रेम कहानी
रुक जा रात...

कल का डरना, काल की चिंता
दो तन है, मन एक हमारे
जीवन सीमा के आगे भी
आऊँगी मैं संग तुम्हारे
रुक जा रात...




कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें