शनिवार, 22 जुलाई 2017

चंदन सा बदन चंचल चितवन-Saraswatichandra

चंदन सा बदन चंचल चितवन
संगीत- कल्यानजी आनंदजी, 
गायक- मुकेश 
film सरस्वतीचन्द्र
      SONG
चंदन सा बदन चंचल चितवन
धीरे से तेरा ये मुस्काना ( 2 )
मुझे दोष ना देना जग बालो
मुझे दोष ना देना जग बालो
हो जाऊँ अगर मै दीवाना
चंदन सा बदन चंचल चितवन
ये काम कमान भबें तेरी
पलकों के किनारे कजरारे
ये काम कमान भबें तेरी
पलकों के किनारे कजरारे
माथे पर सिन्दूरी सूरज
होंठों पे दहकते अंगारे
साया भी जो तेरा पड़ जाये 
साया भी जो तेरा पड़ जाये 
आबाद हो दिल का बीराना
चंदन सा बदन चंचल चितवन
तन भी सुन्दर मन भी सुन्दर
तू सुन्दरता की मूरत है 
तन भी सुन्दर मन भी सुन्दर
तू सुन्दरता की मूरत है 
किसी और को शायद कम होगी
मुझे तेरी बहुत ज़रूरत है
पहले भी बहुत मैं तरसा हूँ
पहले भी बहुत मैं तरसा हूँ 
तू और ना मुझको तरसाना
चंदन सा बदन चंचल चितवन
धीरे से तेरा ये मुस्काना 
मुझे दोष ना देना जग बालो
मुझे दोष ना देना जग बालो
हो जाऊँ अगर मै दीवाना
चंदन सा बदन चंचल चितवन

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें