तलत महमूद लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
तलत महमूद लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

15/6/20

फिर वोही शाम वोही ग़म वोही तनहाई है

फिर वोही शाम वोही ग़म
वोही तनहाई है
दिल को समझाने तेरी याद
चली आई है
फिर वोही शाम वोही ग़म
वोही तनहाई है
दिल को समझाने तेरी याद
चली आई है
फिर वोही शाम...

फिर तसव्वुर तेरे पहलू
में बिठा जाएगा
फिर तसव्वुर तेरे पहलू
में बिठा जाएगा
फिर गया वक़्त घड़ी भर को
पलट आएगा
दिल बहल जाएगा आखिर को
तो सौदाई है
फिर वोही शाम वोही ग़म
वोही तनहाई है
दिल को समझाने तेरी याद
चली आई है
फिर वोही शाम...

जाने अब तुझ से मुलाक़ात
कभी हो के न हो
जाने अब तुझ से मुलाक़ात
कभी हो के न हो
जो अधूरी रही वो बात कभी
हो के न हो
मेरी मंज़िल तेरी मंज़िल
से बिछड़ आई है
फिर वोही शाम वोही ग़म
वोही तनहाई है
दिल को समझाने तेरी याद
चली आई है
फिर वोही शाम...

14/6/20

इतना न मुझसे तू प्यार बढ़ा


त:
इतना न मुझसे तू प्यार बढ़ा
के मैं एक बादल आवारा
कैसे किसी का सहारा बनूँ
के मैं खुद बेघर बेचारा
इतना न...

त: 
मुझे एक जगह आराम नहीं
रुक जाना मेरा काम नहीं
मेरा साथ कहाँ तक दोगी तुम 
मै देश विदेश का बंजारा

ल :
इस लिये तुझसे प्यार करूं
के तू एक बादल आवारा
जनम जनम से हूँ साथ तेरे 
के नाम मेरा जल की धारा

ल:
ओ नील गगन के दीवाने
तू प्यार न मेरा पहचाने
मैं तब तक साथ चलूँ तेरे
जब तक न कहे तू मैं हारा

त:
क्यूँ प्यार में तू नादान बने
इक बादल का अरमान बने
मेरा साथ कहाँ तक दोगी तुम
मैं देस-बिदेस का बंजारा
इतना न...


त:
मदहोश हमेशा रहता हूँ
खामोश हूँ कब कुछ कहता हूँ
कोई क्या जाने मेरे सीने में
है बिजली का भी अंगारा

त:
अरमान था गुलशन पर बरसूँ
एक शोख के दामन पर बरसूँ
अफ़सोस जली मिट्टी पे मुझे
तक़दीर ने मेरी दे मारा
इतना न...

5/11/19

इतना न मुझसे तू प्यार बढ़ा

Itna Na Mujhse Tu Pyar Badha
Talat Mahmood


इतना न मुझसे तू प्यार बढ़ा
के मैं एक बादल आवारा
कैसे किसी का सहारा बनूँ
के मैं खुद बेघर बेचारा
इतना न मुझसे तू प्यार बढ़ा
के मैं एक बादल आवारा
कैसे किसी का सहारा बनूँ
के मैं खुद बेघर बेचारा
अरमान था गुलशन पर बरसूँ
एक शोख के दामन पर बरसूँ
अरमान था गुलशन पर बरसूँ
एक शोख के दामन पर बरसूँ
अफ़सोस जली मिट्टी पे मुझे
तक़दीर ने मेरी दे मारा
इतना न मुझसे तू प्यार बढ़ा
के मैं एक बादल आवारा
कैसे किसी का सहारा बनूँ
के मैं खुद बेघर बेचारा
मदहोश हमेशा रहता हूँ
खामोश हूँ कब कुछ कहता हूँ
मदहोश हमेशा रहता हूँ
खामोश हूँ कब कुछ कहता हूँ
कोई क्या…

किडनी फेल (गुर्दे खराब) की अमृत औषधि 

प्रोस्टेट ग्रंथि बढ्ने से मूत्र बाधा की हर्बल औषधि 

सिर्फ आपरेशन नहीं ,पथरी की 100% सफल हर्बल औषधि 

आर्थराइटिस(संधिवात)के घरेलू ,आयुर्वेदिक उपचार



30/7/19

होके मजबूर मुझे उसने भुलाया होगा ,भूपेंद्र, मोहम्मद रफ़ी, तलत महमूद, मन्ना डे

 होके मजबूर मुझे उसने भुलाया होगा 


Film: हकिकत-(Haqeeqat)

भूपेंद्र,  मोहम्मद रफ़ी,  तलत महमूद,  मन्ना डे


होके मजबूर मुझे उसने भुलाया होगा ज़हर चुपके से दवा जानके खाया होगा होके मजबूर... भूपिंदर: दिल ने ऐसे भी कुछ अफ़साने सुनाए होंगे अश्क़ आँखों ने पिये और न बहाए होंगे बन्द कमरे में जो खत मेरे जलाए होंगे एक इक हर्फ़ जबीं पर उभर आया होगा रफ़ी: उसने घबराके नज़र लाख बचाई होगी दिल की लुटती हुई दुनिया नज़र आई होगी मेज़ से जब मेरी तस्वीर हटाई होगी हर तरफ़ मुझको तड़पता हुआ पाया होगा होके मजबूर... तलत: छेड़ की बात पे अरमाँ मचल आए होंगे ग़म दिखावे की हँसी ने न छुपाए होंगे नाम पर मेरे जब आँसू निकल आए होंगे - (२) सर न काँधे से सहेली के उठाया होगा मन्ना डे: ज़ुल्फ़ ज़िद करके किसी ने जो बनाई होगी और भी ग़म की घटा मुखड़े पे छाई होगी बिजली नज़रों ने कई दिन न गिराई होगी रँग चहरे पे कई रोज़ न आया होगा होके मजबूर...



8/5/16

अंधे जहां के अंधे रास्ते जाएँ तो जाएँ कहाँ// Andhe Jahan Ke Andhe Raaste - Classic Sad Song - Patita - Dev Anand, Ush...

अंधे जहां के अंधे रास्ते जाएँ तो जाएँ कहाँ,
 Andhe Jahan Ke Andhe Raaste,
 Patita, 
तलत महमूद ,

            

SONG

अंधे जहान के अंधे रास्ते, जाएं तो जाएं कहाँ
दुनिया तो दुनिया, तू भी पराया, हम यहाँ ना वहाँ


जीने की चाहत नहीं, मर के भी राहत नहीं
अंधे जहान के ...
इस पार आँसू, उस पार आहें, दिल मेरा बेज़ुबां


हम को न कोई बुलाए, ना कोई पलकें बिछाए
आग़ाज़ के दिन तेरा अंजाम तय हो चुका
ऐ ग़म के मारों, मंज़िल वहीं है, दम ये टूटे जहाँ
अंधे जहान के ...


जलते रहें हैं, जलते रहेंगे, ये ज़मीं आसमां
अंधे जहान के ...


पुरुष ग्रंथि (प्रोस्टेट) बढ़ने से मूत्र - बाधा  का  अचूक  इलाज 

*किडनी फेल(गुर्दे खराब ) रोग की जानकारी और उपचार*

गुर्दे की पथरी कितनी भी बड़ी हो ,अचूक हर्बल औषधि

पित्त पथरी (gallstone)  की अचूक औषधि 


30/3/16

वो ज़ालिम प्यार क्या जाने // vo jalim pyaar kyaa jaane Talat Mahmood

वो ज़ालिम प्यार क्या जाने
vo jalim pyaar kyaa jaane
Talat Mahmood
फिल्म-परछाईं
                        गाना
मुहब्बत ही न जो समझे, वो ज़ालिम प्यार क्या जाने
निकलती दिल के तारों से, जो है झंकार क्या जाने
मुहब्बत ही न जो समझे ...

गला किसका कटा क्यूँकर कटा तलवार क्या जाने
उसे तो क़त्ल करना और तड़पाना ही आता है
मुहब्बत ही न जो समझे ...


दवा से फ़ायदा होगा कि होगा ज़हर ए क़ातिल से मज़र् की क्या दवा है ये कोई बीमार क्या जाने मुहब्बत ही न जो समझे ... करो फ़रियाद सर टकराओ अपनी जान दे डालो तड़पते दिल की हालत हुस्न की दीवार क्या जाने मुहब्बत ही न जो समझे


गठिया ,घुटनों का दर्द,कमर दर्द ,सायटिका के अचूक उपचार 

गुर्दे की पथरी कितनी भी बड़ी हो ,अचूक हर्बल औषधि

पित्त पथरी (gallstone) की अचूक औषधि 

सेक्स का महारथी बनाने और मर्दानगी बढ़ाने वाले अचूक नुस्खे


रात ने क्या क्या ख्वाब // RAAT NE KYA KYA KHWAAB -TALAT -SHAILENDRA-SALIL CHAUDHARY-(EK GAON KI KA...


रात ने क्या क्या ख्वाब

गीतकार : शैलेन्द्र,
गायक : तलत मेहमूद,
 संगीतकार : सलील चौधरी,
चित्रपट : एक गांव की कहानी -
 Lyricist : Shailendra,
Singer : Talat Mehmood,
 Music Director : Saleel Chowdhury,
 Movie : Ek Gaon Ki Kahani 
            गाना 
रात ने क्या-क्या ख़्वाब दिखाए, रंगभरे सौ जाल बिछाए
आँखें खुलीं तो सपने टूटे, रह गए ग़म के काले साए
रात ने क्या-क्या ख़्वाब दिखाए
हमने तो चाहा भूल ही जाएँ, वो अफ़्साना क्यूँ दोहराएँ
दिल रह-रहके याद दिलाए
रात ने क्या-क्या ख़्वाब दिखाए …


दिल में दिल का दर्द छुपाए, चलो जहाँ क़िस्मत ले जाए
दुनिया पराई, लोग पराए
रात ने क्या-क्या ख़्वाब दिखाए …


गठिया ,घुटनों का दर्द,कमर दर्द ,सायटिका के अचूक उपचार 

गुर्दे की पथरी कितनी भी बड़ी हो ,अचूक हर्बल औषधि

पित्त पथरी (gallstone) की अचूक औषधि 

सेक्स का महारथी बनाने और मर्दानगी बढ़ाने वाले अचूक नुस्खे



दिल ए नादान तुझे हुआ क्या है // dil e nadan tujhe hua kya hai..mirza ghalib -talat-suraiya




Dil-E-Nadan Tujhe Hua Kya
दिल-ए-नादां तुझे हुआ क्या है?
आख़िर इस दर्द की दवा क्या है?
दिल-ए-नादां तुझे हुआ क्या है?
आख़िर इस दर्द की दवा क्या है?
हम हैं मुश्ताक़ और वो बेज़ार
हम हैं मुश्ताक़ और वो बेज़ार
या इलाही ये माजरा क्या है?
दिल-ए-नादां तुझे हुआ क्या है?
मैं भी मुँह में ज़ुबान रखता हूँ
मैं भी मुँह में ज़ुबान रखता हूँ
काश पूछो कि मुद्दा क्या है
दिल-ए-नादां तुझे हुआ क्या है?
हमको उनसे वफ़ा की है उम्मीद
हमको उनसे वफ़ा की है उम्मीद
जो नहीं जानते  वफ़ा क्या है?

पुरुष ग्रंथि (प्रोस्टेट) बढ़ने से मूत्र - बाधा  का  अचूक  इलाज 

*किडनी फेल(गुर्दे खराब ) रोग की जानकारी और उपचार*

गठिया ,घुटनों का दर्द,कमर दर्द ,सायटिका  के अचूक उपचार 

गुर्दे की पथरी कितनी भी बड़ी हो ,अचूक हर्बल औषधि

पित्त पथरी (gallstone)  की अचूक औषधि 


---------------