दिल की नज़र से नज़रों की दिल से लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
दिल की नज़र से नज़रों की दिल से लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

7/5/16

दिल की नज़र से नज़रों की दिल से//Dil Ki Nazar Se Nazron Ki Dil Se || Ana...

दिल की नज़र से नज़रों की दिल से,
Dil Ki Nazar Se Nazron Ki Dil Se
  Anadi,
lata,mukesh ,



दिल की नज़र से, नज़रों की दिल से 
ये बात क्या है, ये राज़ क्या है 
धीरे से उठकर, होठों पे आया 
कोई हमें बता दे 
ये गीता कैसा, ये राज़ क्या है 
क्यों बेखबर, यूँ खिंचीसी चली जा रही मैं 
कोई हमें बता दे, दिल की नज़र से ... 
ये कौनसे बन्धनों में बंधी जा रही मैं 
कोई हमें बता दे, दिल की नज़र से ... 
कुछ खो रहा है, कुछ मिल रहा है ये बात क्या है, ये राज़ क्या है 
हम खो चले, चाँद है या कोई जादूगर है 
कोई हमें बता दे, दिल की नज़र से ... या, मदभरी, ये तुम्हारी नज़र का असर है
 सब कुछ हमारा, अब है तुम्हारा ये बात क्या है, ये राज़ क्या है आकाश में, हो रहें हैं ये कैसे इशारे 
कोई हमें बता दे, दिल की नज़र से ... क्या, देखकर, 
आज हैं इतने खुश चाँद-तारे क्यों तुम पराये, दिल में समाये