महेंद्र कपूर लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
महेंद्र कपूर लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

20/7/17

दो नैन मिले, दो फूल खिले-घूंघट (1960)


दो नैन मिले, दो फूल खिले
फ़िल्म/एल्बम: घूंघट (1960) 
संगीतकार: रवि 
गीतकार: शकील बदायुनी 
गायक/गायिका: आशा भोंसले, महेंद्र कपूर



दो नैन मिले, दो फूल खिले
दुनिया में बहार आई
एक रंग नया लायी, एक रंग नया लायी
दिल गाने लगा, लहराने लगा
ली प्यार ने अंगड़ाई
बजने लगी शहनाई, बजने लगी शहनाई
दो नैन मिले…

अरमान भरी नज़रों से बलम
इस तरह हमें देखा न करो
हो जाए ना रुसवा इश्क़ कहीं
दुनिया है बुरी, दुनिया से डरो
दुनिया का मुझे कुछ खौफ़ नहीं
दुनिया तो है हरजाई, और इश्क़ है सौदाई
दो नैन मिले…

ज़ुल्फों की घनी छांव में सनम
दम भर के लिए जीने दे मुझे
इस मस्त नज़र की तुझको कसम
आंखों से ज़रा पीने दे मुझे
पीना तो कोई दुश्वार नहीं
ओ प्यार के शहदायी, बहके तो है रुसवाई
दो नैन मिले…


पुरुष ग्रंथि (प्रोस्टेट) बढ़ने से मूत्र - बाधा  का  अचूक  इलाज 

*किडनी फेल(गुर्दे खराब ) रोग की जानकारी और उपचार*

गठिया ,घुटनों का दर्द,कमर दर्द ,सायटिका  के अचूक उपचार 

गुर्दे की पथरी कितनी भी बड़ी हो ,अचूक हर्बल औषधि

पित्त पथरी (gallstone)  की अचूक औषधि 

27/5/16

तुम सबसे हसीन हो// O.P. NAYYAR'S MOHABBAT ZINDAGI HAI: "Tum Sabse Haseen Ho"

तुम सबसे हसीन हो ,
MOHABBAT ZINDAGI HAI,
मोहब्बत ज़िन्दगी है ,
1966,
Music: ओ.पी.नैय्यर,
Lyrics: एस.एच.बिहारी,
आशा भोंसले, महेंद्र कपूर


    
           SONG

तुम सबसे हसीं हो और सबसे जवां हो
अजी मेरी नज़र में आई हो, आई हो
जन्नत भी तुम्हीं हो, दुनिया भी तुम्हीं हो
अजी मेरी नज़र में आए हो, आए हो
तुम सबसे हसीं हो...


शाम सवेरे देखूँ बस एक ही सपना
साथ मेरे जब तुम हो, सब कुछ है अपना
रातें भी अपनी, दिन भी अपने, तुम भी अपने सैय्याँ, हो
तुम सबसे हसीं हो...


भूल नहीं की मैंने दिल तुमको दे कर
कौन है इस दुनिया में अजी तुमसे बेहतर
बाहों में मेरी गुनगुना के, मुस्कुरा के आ जाओ
तुम सबसे हसीं हो...


आज मेरी नज़रों को, होगा ना धोखा
आज तुम्हें है दिल की, आँखों से देखा
तुमसे ही मिलकर, मेरे दिलबर, दिल ने जाना, तुम क्या हो
तुम सबसे हसीं हो...


चिकित्सा आलेख-







12/4/16

बीते हुए लम्हों की कसक// Beete Hue Lamhon Ki Kasak Saath To Hogi - Mahendra Kapoor - Nikaah (1982...

बीते हुए लम्हों की कसक,
Beete Hue Lamhon Ki Kasak,
Mahendra Kapoor
Nikaah,
 1982
महेंद्र कपूर 

             SONG 


अभी अलविदा मत कहो दोस्तों
न जाने फिर कहाँ मुलाक़ात हो, क्योंकि

बीते हुए लम्हों की कसक साथ तो होगी
ख़्वाबों में ही हो चाहे मुलाक़ात तो होगी

ये प्यार ये डूबी हुई रँगीन फ़िज़ाएं
ये चहरे ये नज़ारे ये जवाँ रुत ये हवाएं
हम जाएं कहीं इनकी महक साथ तो होगी
बीते हुए लम्हों की …
फूलों की तरह दिल में बसाए हुए रखना
यादों के चिराग़ों को जलाए हुए रखना
लम्बा है सफ़र इस में कहीं रात तो होगी
बीते हुए लम्हों की …
ये साथ गुज़ारे हुए लम्हात की दौलत
जज़्बात की दौलत ये ख़यालात की दौलत
कुछ पास न हो पास ये सौगात तो होगी
बीते हुए लम्हों की …

चिकित्सा आलेख-






---------------

चलो बुलावा आया है // Jai Mata Di - Chalo Bulawa Aaya Hain - Avtaar (1983)

चलो बुलावा आया है
Jai Mata Di - Chalo Bulawa Aaya Hai,
Avtaar,
1983,
महेंद्र कपूर,

         SONG

         
दोहा: माता जिनको याद करे, वो लोग निराले होते हैं |
माता जिनका नाम पुकारे, किस्मत वाले होतें हैं ||

चलो बुलावा आया है, माता ने बुलाया है |
ऊँचे परबत पर रानी माँ ने दरबार लगाया है ||

सारे जग मे एक ठिकाना, सारे गम के मारो का,
रास्ता देख रही है माता, अपने आख के तारों का |
मस्त हवाओं का एक झोखा यह संदेसा लाया है ||

जय माता की कहते जाओ, आने जाने वालो को,
चलते जाओ तुम मत देखो अपने पो के षालों को |
जिस ने जितना दरद सहा है, उतना चैन भी पाया है ||

वैष्णो देवी के मन्दिर मे , लोग मुरदे पाते है,
रोते रोते आते है, हस्ते हस्ते जाते है |
मे भी मांग के देखूं, जिस ने जो माँगा वो पाया है ||

मे तो भी एक माँ हूं माता,
माँ ही माँ को पहचाने |
बेटे का दुःख क्या होता है, और कोई यह क्या जाने |
उस का खून मे देखूं कैसे, जिस को दूध पिलाया है ||

प्रेम से बोलो, जय माता दी |
ओ सारे बोलो, जय माता दी |
वैष्णो रानी, जय माता दी |
अम्बे कल्याणी, जय माता दी |
माँ भोली भाली, जय माता दी |
माँ शेरों वाली, जय माता दी |
झोली भर देती, जय माता दी |
संकट हर लेती, जय माता दी |
ओ जय माता दी, जय माता दी ||


चिकित्सा आलेख-

गठिया ,घुटनों का दर्द,कमर दर्द ,सायटिका  के अचूक उपचार 

गुर्दे की पथरी कितनी भी बड़ी हो ,अचूक हर्बल औषधि

पित्त पथरी (gallstone)  की अचूक औषधि 

सेक्स का महारथी बनाने और मर्दानगी बढ़ाने वाले अचूक नुस्खे 


मेरे देश की धरती // Mere Desh Ki Dharti - Upkar [1967] - Mahendra Kapoor


मेरे देश की धरती
Movie/Album: उपकार
1967
Music By: कल्याणजी-आनंदजी
Lyrics By: गुलशन बावरा
Performed By: महेंद्र कपूर
   
   
गीत 

मेरे देश की धरती
सोना उगले
उगले हीरे मोती
बैलों के गले में जब घुंघरू
जीवन का राग सुनाते हैं
गम कोसों दूर हो जाता है
खुशियों के कँवल मुसकाते है
सुन के रहट की आवाजें
यूं लगे कहीं शहनाई बजे
आते ही मस्त बहारों के
दुल्हन की तरह हर खेत सजे
मेरे देश की धरती...
जब चलते हैं इस धरती पे हल
ममता अंगडाइयाँ लेती है
क्यों ना पूजे इस माटी को
जो जीवन का सुख देती है
इस धरती पे जिसने जनम लिया
उसने ही पाया प्यार तेरा
यहाँ अपना पराया कोइ नहीं
है सब पे माँ, उपकार तेरा
मेरे देश की धरती...
ये बाग़ है गौतम नानक का
खिलते हैं अमन के फूल यहाँ
गांधी, सुभाष, टैगोर, तिलक
ऐसे हैं चमन के फूल यहाँ
रंग हरा हरी सिंह नलवे से
रंग लाल है लाल बहादूर से
रंग बना बसन्ती भगत सिंह
रंग अमन का वीर जवाहर से
मेरे देश की धरती...,


हर्बल चिकित्सा के उपयोगी आलेख-

पुरुष ग्रंथि (प्रोस्टेट) बढ़ने से मूत्र - बाधा  का  अचूक  इलाज 

*किडनी फेल(गुर्दे खराब ) रोग की जानकारी और उपचार*

गठिया ,घुटनों का दर्द,कमर दर्द ,सायटिका  के अचूक उपचार 

गुर्दे की पथरी कितनी भी बड़ी हो ,अचूक हर्बल औषधि

पित्त पथरी (gallstone)  की अचूक औषधि 

सेक्स का महारथी बनाने और मर्दानगी बढ़ाने वाले अचूक नुस्खे 

----



12/10/15

नीले गगन के तले धरती का प्यार पले //Neele Gagan Ke Tale


नीले गगन के तले धरती का प्यार पले
Neele Gagan Ke Tale
गीतकार : साहिर लुधियानवीले
गायक : महेंद्र कपूर,
संगीतकार : रवी


              SONG



हे...नीले गगन के तले

धरती का प्यार पले 



हे...नीले गगन के तले

धरती का प्यार पले

ऐसे ही जग में आती हैं सुबहें 

ऐसे ही शाम ढले 
हे...नीले गगन के तले

शबनम के मोती, फूलों पे बिखरे 
दोनों की आस फले, हे नीले...

बलखाती बेलें, मस्ती में खेलें 
पेड़ों से मिलके गले, हे नीले...

नदियाँ का पानी दरिया से मिलके 
सागर की और चले, 



हे...नीले गगन के तले


चलो एक बार फिर से अजनबी बन जाएँ Chalo Ek Baar Phir Se


चलो इक बार फिर से,
गीतकार : साहिर लुधियानवी,
गायक : महेंद्र कपूर,
चित्रपट : गुमराह 
 Saahir Ludhiyanvi,
 Mahendra Kapoor,
 Gumrah
 1963

              गाना

चलो इक बार फिर से, अजनबी बन जाएं हम दोनो
चलो इक बार फिर से ...

न मैं तुमसे कोई उम्मीद रखूँ दिलनवाज़ी की
न तुम मेरी तरफ़ देखो गलत अंदाज़ नज़रों से
न मेरे दिल की धड़कन लड़खड़ाये मेरी बातों से
न ज़ाहिर हो तुम्हारी कश्म\-कश का राज़ नज़रों से
चलो इक बार फिर से ...

तुम्हें भी कोई उलझन रोकती है पेशकदमी से
मुझे भी लोग कहते हैं कि ये जलवे पराए हैं
मेरे हमराह भी रुसवाइयां हैं मेरे माझी की \- २
तुम्हारे साथ भी गुज़री हुई रातों के साये हैं
चलो इक बार फिर से ...

तार्रुफ़ रोग हो जाये तो उसको भूलना बेहतर
ताल्लुक बोझ बन जाये तो उसको तोड़ना अच्छा
वो अफ़साना जिसे अंजाम तक लाना ना हो मुमकिन \- २
उसे एक खूबसूरत मोड़ देकर छोड़ना अच्छा
चलो इक बार फिर से ...
पुरुष ग्रंथि (प्रोस्टेट) बढ़ने से मूत्र - बाधा  का  अचूक  इलाज 

*किडनी फेल(गुर्दे खराब ) रोग की जानकारी और उपचार*

गठिया ,घुटनों का दर्द,कमर दर्द ,सायटिका  के अचूक उपचार 

गुर्दे की पथरी कितनी भी बड़ी हो ,अचूक हर्बल औषधि

पित्त पथरी (gallstone)  की अचूक औषधि 

.