ये दिल और उनकी लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
ये दिल और उनकी लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

15/10/19

ये दिल और उनकी, निगाहों के साये -लता मंगेशकर


ये दिल और उनकी, निगाहों के साये 


चित्रपट- प्रेम परबत

संगीतकार: जयदेव

लता मंगेशकर


ये दिल और उनकी, निगाहों के साये - (३) 
मुझे घेर लेते, हैं बाहों के साये - (२) 
पहाड़ों को चंचल, किरन चूमती है - (२)
 हवा हर नदी का बदन चूमती है - (२) 
यहाँ से वहाँ तक, हैं चाहों के साये - (२) 
ये दिल और उनकी निगाहों के साये ...
 लिपटते ये पेड़ों से, बादल घनेरे - (२)
 ये पल पल उजाले, ये पल पल अंधेरे - (२) 
बहुत ठंडे ठंडे, हैं राहों के साये - (२)
 ये दिल और उनकी निगाहों के साये ... 
धड़कते हैं दिल कितनी, आज़ादियों से - (२) 
बहुत मिलते जुलते, हैं इन वादियों से - (२) 
मुहब्बत की रंगीं पनाहों के साये - (२)
 ये दिल और उनकी निगाहों के साये ...