शंकर जयकिशन लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
शंकर जयकिशन लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

3/11/18

रसिक बलमा, हाय दिल क्यों लगाया/चोरी चोरी /1956


Movie/Album: चोरी चोरी (1956)
Music By: शंकर जयकिशन
Lyrics By: हसरत जयपुरी
Performed By: 
हसरत जयपुरी

रसिक बलमा, हाय दिल क्यों लगाया
तोसे दिल क्यों लगाया, जैसे रोग लगाया

जब याद आये तिहारी, सूरत वो प्यारी प्यारी
नेहा लगा के हारी, तङपूं मैं गम की मारी

रसिक बलमा
...

ढूंढे हैं पागल नैना, पाए ना इक पल चैना
डसती है उजली रैना, कासे कहूँ मैं बैना

रसिक बलमा
...


किडनी फेल (गुर्दे खराब) की हर्बल औषधि

प्रोस्टेट ग्रंथि बढ्ने से मूत्र बाधा की हर्बल औषधि

सिर्फ आपरेशन नहीं ,पथरी की 100% सफल हर्बल औषधि

आर्थराइटिस(संधिवात)के घरेलू ,आयुर्वेदिक उपचा

31/7/17

रुक जा रात ठहर जा रे चन्दा-दिल एक मन्दिर


Movie/Album: दिल एक मन्दिर

 (1963)
Music By: शंकर जयकिशन
Lyrics By: शैलेन्द्र
 लता मंगेशकर



         गाना 
रुक जा रात ठहर जा रे चन्दा
बीते ना मिलन की बेला
आज चाँदनी की नगरी में
अरमानों का मेला

पहले मिलन की यादें लेकर
आयी है ये रात सुहानी
दोहराते हैं फ़िर ये सितारे
मेरी तुम्हारी प्रेम कहानी
रुक जा रात...

कल का डरना, काल की चिंता
दो तन है, मन एक हमारे
जीवन सीमा के आगे भी
आऊँगी मैं संग तुम्हारे
रुक जा रात...





पित्त पथरी (gallstone)  की अचूक औषधि 



20/7/17

सौ बरस की ज़िन्दगी से अच्छे हैं-



फ़िल्म/एल्बम: सच्चाई (1969)
संगीतकार: शंकर जयकिशन
गीतकार:राजिंदर कृषण
गायक/गायिका: आशा भोंसले, मो.रफ़ी
  


    SONG


सौ बरस की ज़िन्दगी से अच्छे हैं
प्यार के दो चार दिन
ज़िन्दगी की हर ख़ुशी से अच्छे हैं
प्यार के दो चार दिन
प्यार ही से ये ज़मीं है, प्यार ही से आसमां
प्यार का लेकर सहारा, चल रहा है ये जहां
प्यार शबनम, प्यार शोला
प्यार ही बाद-ए-सबा
फूल कलियां चांद तारे
सब मोहब्बत के निशां
सौ बरस की ज़िन्दगी से…
ये मुहब्बत दो दिलों का, खूबसूरत राज़ है
दिल की धड़कन जिसकी सरगम, है यही वो ताज़ है
चाहे भंवरे का हो नगमा
या पपीहे की सदा
प्यार कहते हैं जिसे हम
एक ही आवाज़ है
सौ बरस की ज़िन्दगी से…



पठनीय चिकित्सा लेख-