1957 लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
1957 लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

7/5/16

आए हैं दूर से

आए हैं दूर से ,
 Aaye Hai Door Se,
फिल्म -तुम सा नहीं देखा ,
रफी,आशा भोसले 
1957

        SONG
आशा- आए हैं दूर से, मिलने हज़ूर से ऐसे भी चुप न रहिये, कहिये जी कुछ तो कहिये दिन है के रात है रफ़ी- हाय-- लाखों ही ज़ुल्फ़ों वाले, आती हैं घेरा डाले तुमसे मेहमान क्या, मुझपे अहसान क्या मेरी क्या बात है शरमाना छोड़िये, ये क्या अदा है आशा- आये हैं दूर से-- उठ के तो देखिये, कैसी फ़िज़ा है आशा- आये हैं दूर से-- रफ़ी- तौबा ये क्या फ़रमाया मैं तो यूँ ही शरमाया रफ़ी- ओ ओ ओ-- मेरी क्या बात है तुमसे मेहमान का-- दिखती है रोज़ ही, ऐसी फ़िज़ाएं मुखड़े के सामने, काली घटाएं आशा- कोई चल जाए जादू, फिर हम पूछेंगे बाबू दिन है के रात है-- रफ़ी- ओ ओ ओ-- आशा- आ आ आ-- तुमसे मेहमान का-- आये हैं दूर से--



30/3/16

रात ने क्या क्या ख्वाब // RAAT NE KYA KYA KHWAAB -TALAT -SHAILENDRA-SALIL CHAUDHARY-(EK GAON KI KA...


रात ने क्या क्या ख्वाब

गीतकार : शैलेन्द्र,
गायक : तलत मेहमूद,
 संगीतकार : सलील चौधरी,
चित्रपट : एक गांव की कहानी -
 Lyricist : Shailendra,
Singer : Talat Mehmood,
 Music Director : Saleel Chowdhury,
 Movie : Ek Gaon Ki Kahani 
            गाना 
रात ने क्या-क्या ख़्वाब दिखाए, रंगभरे सौ जाल बिछाए
आँखें खुलीं तो सपने टूटे, रह गए ग़म के काले साए
रात ने क्या-क्या ख़्वाब दिखाए
हमने तो चाहा भूल ही जाएँ, वो अफ़्साना क्यूँ दोहराएँ
दिल रह-रहके याद दिलाए
रात ने क्या-क्या ख़्वाब दिखाए …


दिल में दिल का दर्द छुपाए, चलो जहाँ क़िस्मत ले जाए
दुनिया पराई, लोग पराए
रात ने क्या-क्या ख़्वाब दिखाए …


गठिया ,घुटनों का दर्द,कमर दर्द ,सायटिका के अचूक उपचार 

गुर्दे की पथरी कितनी भी बड़ी हो ,अचूक हर्बल औषधि

पित्त पथरी (gallstone) की अचूक औषधि 

सेक्स का महारथी बनाने और मर्दानगी बढ़ाने वाले अचूक नुस्खे



28/3/16

जाने वो लोग थे जिनके प्यार को प्यार मिला //Jaane woh kaise log the jinke pyar ko pyar mila- PYASA

जाने वो लोग थे जिनके  प्यार  को प्यार मिला 
Jaane woh kaise log the jinke pyar ko pyar mila
गीतकार : साहिर लुधियानवी,
 गायक : हेमंत कुमार,
संगीतकार : सचिनदेव बर्मन,
Lyricist : Saahir Ludhiyanvi,
Singer : Hemant kumar,
 Music Director : Sachindev Burman,
Movie : Pyaasa 
1957
              
SONG


जाने वो कैसे लोग थे जिनके प्यार को प्यार मिला
हमने तो जब कलियाँ मांगी काँटों का हार मिला । 
खुशियों की मंजिल ढूँढी तो गम की गर्द मिली
चाहत के नगमे चाहे तो आंहें सर्द मिली
दिल के बोझ को दूना कर गया जो गमख्वार मिला
हमने तो जब कलियाँ मांगी काँटों का हार मिला । 
बिछड़ गया हर साथी दे कर पल दो पल का साथ
किसको फुर्सत है जो थामे दीवानों का हाथ
हमको अपना साया तक अक्सर बेजार मिला
हमने तो जब कलियाँ मांगी काँटों का हार मिला । 
इसको ही जीना कहते है तो यूँ ही जी लेंगे
उफ़ न करेंगे, लब सी लेंगे, आँसू पी लेंगे
गम से अब घबराना कैसा, गम सौ बार मिला
हमने तो जब कलियाँ मांगी काँटों का हार मिला ।


8/9/15

छोड़ दो आँचल //Chhod Do Aanchal

छोड़ दो आँचल
  Chhod Do Aanchal
गीतकार : मजरुह सुलतानपुरी,
 गायक : आशा भोसले - किशोर कुमार,
संगीतकार : सचिनदेव बर्मन,
Lyricist : Majrooh Sultanpuri,
Singer : Asha Bhosle - Kishore Kumar,
Music : Sachindev Burman,
Movie : Paying Guest
1957

               SONG
छोड़ दो आँचल ज़माना क्या कहेगा
इन अदाओं का ज़माना भी है दीवाना दीवाना क्या कहेगा
छोड़ दो आँचल...


मैं चली अब खूब छेड़ो प्यार के अफ़साने
कुछ मौसम है दीवाना कुछ तुम भी हो दीवाने
ज़रा सुनना, जान-ए-तमन्ना
इतना तो सोचिये मौसम सुहाना क्या कहेगा
छोड़ दो आँचल...


यूँ न देखो जाग जाए प्यार की अंगड़ाई
ये रस्ता ये तनहाई, लो दिल ने ठोकर खाई
यही दिन हैं मस्ती के सिन हैं
किसको ये होश है अपना बेगाना क्या कहेगा
छोड़ दो आँचल...


ये बहारें, ये फुहारें, ये बरसता सावन
थर थर काँपे हैं तन मन
मेरी बैय्याँ धर लो साजन
अजी आना, दिल में समाना
एक दिल एक जान हैं हम तुम, ज़माना क्या कहेगा
छोड़ दो आँचल...


आँखों का चश्मा हटाने का अचूक घरेलू उपाय

शीतकाल मे बढ़ाएं अपनी यौन शक्ति

गठिया ,घुटनों का दर्द,कमर दर्द ,सायटिका के अचूक उपचार

गुर्दे की पथरी कितनी भी बड़ी हो ,अचूक हर्बल औषधि

पित्त पथरी (gallstone) की अचूक औषधि