1965 लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
1965 लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

16/8/18

बेदर्दी बालमा तुझको मेरा मन याद करता है

फ़िल्म: आरज़ू / Arzoo (1965)
गायक/गायिका: लता मंगेशकर
संगीतकार: शंकर-जयकिशन
गीतकार: हसरत जयपुरी


               
SONG

बेदर्दी बालमा तुझको मेरा मन याद करता है
बरसता है जो आँखों से वो सावन याद करता है

कभी हम साथ गुज़रे जिन सजीली रहगुज़ारों से
फ़िज़ा के भेस में गिरते हैं अब पत्ते चनारों से
ये राहें याद करती हैं ये गुलशन याद करता है

कोई झोंका हवा का जब मेरा आँचल उड़ाता है
गुमाँ होता है जैसे तू मेरा दामन हिलाता है
कभी चूमा था जो तूने वो दामन याद करता है

वो ही हैं झील के मंदर वो ही किरनों कि बरसातें
जहाँ हम तुम किया करते थे पहरों प्यार की बातें
तुझे इस झील का ख़ामोश दरपन याद करता है


किडनी फेल (गुर्दे खराब) की हर्बल औषधि

प्रोस्टेट ग्रंथि बढ्ने से मूत्र बाधा की हर्बल औषधि

सिर्फ आपरेशन नहीं ,पथरी की 100% सफल हर्बल औषधि

पित्त पथरी (gallstone) की अचूक औषधि



10/9/17

ये समा समा है ये प्यार का

गाना / Title: ये समा, समा है ये प्यार का - ye samaa, samaa hai ye pyaar kaa
Movie: Jab Jab Phool Khile Music Director: Kalyanji Anandji Singers: Lata Mangeshkar
1965


Song

ये समा समा है ये प्यार का
किसी के इंतज़ार का दिल ना चुराले कहीं मेरा मौसम बहार का ये समा... बसने लगे आँखों में कुछ ऐसे सपने कोई बुलाए जैसे नैनों से अपने \- (२) ये समा... मिलके खयालों में ही
अपने बलम से
नींद गंवाँई अपनी मैंने क़सम से \- (२) ये समा...




8/5/16

जाइए आप कहाँ जाएँगे // Jaiye Aap Kahan Jayenge - Mere Sanam

जाइए आप कहाँ जाएँगे
 Jaiye Aap Kahan Jayenge
  Mere Sanam
1965

 SONG

जाइये आप कहाँ जायेंगे
ये नज़र लौट के फिर आयेगी
दूर तक आप के पीछे पीछे
जाइये...
मेरी आवाज़ चली आयेगी
कोई काँटा वोही दामन से लिपट जायेगा
आपको प्यार मेरा याद जहाँ आयेगा
जाइये...
रोक लेंगी कोई डाली मेरी बाहों की तरह
जब उठोगे मेरी बेताब निगाहों की तरह
जाइये...
जाइये...
देखिये चैन मिलेगा न कहीं दिल के सिवा
आपका कोई नहीं, कोई नहीं दिल के सिवा


*किडनी फेल(गुर्दे खराब ) रोग की जानकारी और उपचार*

गठिया ,घुटनों का दर्द,कमर दर्द ,सायटिका  के अचूक उपचार 

गुर्दे की पथरी कितनी भी बड़ी हो ,अचूक हर्बल औषधि

पित्त पथरी (gallstone)  की अचूक औषधि 


8/9/15

दिल जो न कह सका //Dil Jo Na Keha Saka

गीतकार : मजरुह सुलतानपुरी,
संगीतकार : रोशन,
गायक : मोहम्मद रफी,
 चित्रपट : भीगी रात 
 Lyricist : Majrooh Sultanpuri,,
Music Director : Roshan,
 Singer : Mohammad Rafi,
Movie : Bheegi Raat 
1965
रफ़ी

           गाना
दिल जो न कह सका
वही राज़-ए-दिल कहने की रात आई
दिल जो न कह सका
नग्मा सा कोई जाग उठा बदन में

झनकार की सी थरथरी है तन में
मुबारक तुम्हें किसी की
लरजती सी बाहों में रहने की रात आई
दिल जो न कह सका...


तौबा ये किस ने अंजुमन सजा के
टुकड़े किये हैं गुंच-ए-वफ़ा के
उछालो गुलों के टुकड़े
के रंगीं फ़िज़ाओं में रहने की रात आई
दिल जो न कह सका...


चलिये मुबारक ये जश्न दोस्ती का
दामन तो थामा आपने किसी का
हमें तो खुशी यही है
तुम्हें भी किसी को अपना कहने की रात आई
दिल जो न कह सका...


सागर उठाओ दिल का किस को ग़म है</
आज दिल की क़ीमत जाम से भी कम है
पियो चाहे खून-ए-दिल हो
के पीते पिलाते ही रहने की रात आई
दिल जो न कह सका...


लता:
दिल जो ना कह सका

वही राज-ए-दिल, कहने की रात आई


नग्मा सा कोई जाग उठा बदन में
झनकार की सी थरथरी है तन में
प्यार की इन्हीं धड़कती फ़िज़ाओं में
रहने की रात आई...


अब तक दबी थी एक मौज-ए-अरमां
लब तक जो आई, बन गई हैं तूफां
बात प्यार की बहकती निगाहों से
कहने की रात आई...


गुज़रे ना ये शब, खोल दूँ ये जुल्फें
तुम को छुपा लूँ, मूँद के ये पलकें
बेक़रार सी लरज़ती सी छाँव में
रहने की रात आई...
किडनी फेल (गुर्दे खराब) की हर्बल औषधि 

प्रोस्टेट ग्रंथि बढ्ने से मूत्र बाधा की हर्बल औषधि 

सिर्फ आपरेशन नहीं ,पथरी की 100% सफल हर्बल औषधि 

आर्थराइटिस(संधिवात)के घरेलू ,आयुर्वेदिक उपचार