1967 लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
1967 लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

18/8/18

तुम अगर साथ देने का वादा करो / Film: Hamraaz

चित्रपट / Film: Hamraaz
संगीतकार / Music Director: Ravi
गीतकार / Lyricist: साहिर-(Sahir)
गायक / Singer(s): महेन्द्र कपूर-(Mahendra Kapoor)


तुम अगर साथ देने का वादा करो
मे यूही मस्त नगमे लुटता रहू
तुम मुझे देख कर मुस्कुराती रहो
मे तुम्हे देख कर गीत गाता रहू

कितने जलवे फिजाओ मे बिखरे मगर
मैने अब तक किसी को पुकारा नही
तुमको देखा तो नज़रे यह कहने लगी
हमको चेहरे से हटना गवारा नही
तुम अगर मेरी नज़रो के आगे रहो,
मे हर एक शीय से नज़रे चुराता रहू
तुम अगर साथ देने का वादा करो......

मैने ख्वाबो मे बरसो तराशा जिसे
तुम वाही संग-ए-मर्मर की तस्वीर हो
तुम ना समझो तुम्हारा मुक़दर हू मे
मे समझता हू तुम मेरी तकदीर हो
तुम अगर मुझको अपना समझने लगो
मे बहारो की महफ़िल सजाता रहू,
तुम अगर साथ देने का वादा करो......






12/4/16

मेरे देश की धरती // Mere Desh Ki Dharti - Upkar [1967] - Mahendra Kapoor


मेरे देश की धरती
Movie/Album: उपकार
1967
Music By: कल्याणजी-आनंदजी
Lyrics By: गुलशन बावरा
Performed By: महेंद्र कपूर
   
   
गीत 

मेरे देश की धरती
सोना उगले
उगले हीरे मोती
बैलों के गले में जब घुंघरू
जीवन का राग सुनाते हैं
गम कोसों दूर हो जाता है
खुशियों के कँवल मुसकाते है
सुन के रहट की आवाजें
यूं लगे कहीं शहनाई बजे
आते ही मस्त बहारों के
दुल्हन की तरह हर खेत सजे
मेरे देश की धरती...
जब चलते हैं इस धरती पे हल
ममता अंगडाइयाँ लेती है
क्यों ना पूजे इस माटी को
जो जीवन का सुख देती है
इस धरती पे जिसने जनम लिया
उसने ही पाया प्यार तेरा
यहाँ अपना पराया कोइ नहीं
है सब पे माँ, उपकार तेरा
मेरे देश की धरती...
ये बाग़ है गौतम नानक का
खिलते हैं अमन के फूल यहाँ
गांधी, सुभाष, टैगोर, तिलक
ऐसे हैं चमन के फूल यहाँ
रंग हरा हरी सिंह नलवे से
रंग लाल है लाल बहादूर से
रंग बना बसन्ती भगत सिंह
रंग अमन का वीर जवाहर से
मेरे देश की धरती...,

पुरुष ग्रंथि (प्रोस्टेट) बढ़ने से मूत्र - बाधा का अचूक इलाज

*किडनी फेल(गुर्दे खराब ) रोग की जानकारी और उपचार*

गठिया ,घुटनों का दर्द,कमर दर्द ,सायटिका के अचूक उपचार

गुर्दे की पथरी कितनी भी बड़ी हो ,अचूक हर्बल औषधि



31/3/16

रात अकेली है बुझ गए दिये // Raat Akeli Hai Bujh Gaye Diye (Jewel Thief) - Rekha Pande


रात अकेली है बुझ गए दिये
गीतकार : मजरुह सुलतानपुरी,
गायक : आशा भोसले,
संगीतकार : सचिनदेव बर्मन,
 Lyricist : Majrooh Sultanpuri,
Music Director : Sachindev Burman,
Movie : Jewel Thief .1967

                   गाना 

रात अकेली है, बुझ गए दिये
आके मेरे पास,
कानों में मेरे जो भी चाहे कहिये,
जो भी चाहे कहिये,
रात ...
रुत भी है फ़ुरसत भी है
तुम आज मेरे लिये रुक जाओ,
तुम्हें ना हो ना सही,
तो चुप क्यूँ रहिये जो भी चाहे कहिये,
मुझे तुमसे मुहब्बत है
मुहब्बत की इजाज़त है,
रात ...
सवाल बनी हुई दबी दबी उलझन सीनों में
जवाब देना था, तो डूबे हो पसीनों में ठानी है
दो हसीनों में, तो चुप क्यूँ रहिये जो भी चाहे कहिये, रात ...




पुरुष ग्रंथि (प्रोस्टेट) बढ़ने से मूत्र - बाधा  का  अचूक  इलाज 

*किडनी फेल(गुर्दे खराब ) रोग की जानकारी और उपचार*

नीलगिरी तेल के स्वास्थ्य लाभ


7/3/16

दीवानों से ये मत पूछो // Diwano Se Ye Mat Puchho Diwano Pe Kya Guzari Hai फिल्म - Upkar

दीवानों से ये मत पूछो 
 Diwano Se Ye Mat Puchho 
गायक : मुकेश,
संगीतकार : कल्याणजी आनंदजी,
 /Lyricist : Qamar Jalalabadi,
Singer : Mukesh,
Music Director : Kalyanji Anandji,
Movie : Upkar ,1967

     SONG

दीवानों से ये मत पूछो

दीवानों पे क्या गुज़री है

हाँ उनके दिलों से ये पूछो

अरमानों पे क्या गुज़री है

दीवानों से ये...

औरों को पिलाते रहते हैं
और ख़ुद प्यासे रह जाते हैं
ये पीने वाले क्या जाने
पैमानों पे क्या गुज़री है
दीवानों से ये..

मालिक ने बनाया इन्सां को
इनसान मुहब्बत कर बैठा
वो ऊपर बैठा क्या जाने
इनसानों पे क्या गुज़री है


21/10/15

दिल का दिया जला के गया ये कौन मेरी तनहाई मे

दिल का दिया जला के गया
aakash deep
1967


                SONG


dil ka diya jala ke gaya, yeh kaun meri tanahai me
dil ka diya jala ke gaya, yeh kaun meri tanahai me
dil ka diya jala ke gaya, yeh kaun meri tanahai me
soye nagme jaag uthe, hontho ki shahanaayi me
pyaar aramaano ka dar khatkaye
khwaab jaage aankho se milane ko aaye
khwaab jaage aankho se milane ko aaye
pyaar aramaano ka dar khatkaye
kitne saaye dol pade, suni si anganayi me
aaina jo dekha sawar gayi main toh

dil ka diya jala ke gaya, yeh kaun meri tanahai me
ek hi najar me nikhar gayi main toh
ek hi najar me nikhar gayi main toh
aaina jo dekha sawar gayi main toh
bol wahi jaise ke bol rahi hu
tan pe ujaala phail gaya pahali hi angadai me

dil ka diya jala ke gaya, yeh kaun meri tanahai me
aankh pe labo ka me khol rahi hu
aankh pe labo ka me khol rahi hu
bol wahi jaise ke bol rahi hu
dil ka diya
bol jo dube se hai kahi, is dil ki gaharai me
dil ka diya jala ke gaya, yeh kaun meri tanahai me





18/10/15

हम तुम जुग जुग से // "Hum tum, jug jug se yeh geet milan ke"- मिलन

गीतकार : आनंद बक्षी,
गायक : लता - मुकेश,
संगीतकार : लक्ष्मीकांत प्यारेलाल,
चित्रपट : मिलन १९६७
Lyricist : Anand Bakshi,
Singer : Lata Mangeshkar - Mukesh,
Music Director : Laxmikant Pyarelal,
/Movie : Milan
1967


            SONG 

hum tum
hum tum yug yug se ye geet milan ke
gaate rahe hain gaate rahenge
aate rahe hain aate rahenge
hum tum jag me jeevan saathi bankar
hum tum
har baar tumhi ne maang bhari
jab jab hamne jeevan paya
jab jab ye rup saja sajna
par saath nahi chhoota apna
tumhi ne pehnaye kangana
hum phool bane ya raakh huye
hum tum yug yug se ye geet milan ke >har baar tumhi tum aan base
in aankho me bankar sapna
hum tum kisi roz paraye thhe
gaate rahe hain gaate rahenge
hum tum
hum aaj kahe tumko apna
aise bhi zamaane aaye the
baaho ke haar tumhe humne
barso pehle pehnaaye the
duniya samjhi hum bichhad gaye
gaate rahe hain gaate rahenge
lekin woh juda honewaale
hum nahi hamare saye the
hum tum yug yug se ye geet milan ke
hum tum



12/10/15

नीले गगन के तले धरती का प्यार पले //Neele Gagan Ke Tale


नीले गगन के तले धरती का प्यार पले
Neele Gagan Ke Tale
गीतकार : साहिर लुधियानवीले
गायक : महेंद्र कपूर,
संगीतकार : रवी


              SONG


हे...नीले गगन के तले

धरती का प्यार पले 

हे...नीले गगन के तले

धरती का प्यार पले

ऐसे ही जग में आती हैं सुबहें 

ऐसे ही शाम ढले 

हे...नीले गगन के तले



शबनम के मोती, फूलों पे बिखरे 
दोनों की आस फले, हे नीले...

बलखाती बेलें, मस्ती में खेलें 
पेड़ों से मिलके गले, हे नीले...

नदियाँ का पानी दरिया से मिलके 
सागर की और चले, 


हे...नीले गगन के तले