MUJHE TUMSE KUCH BHI NA CHAHIYE लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
MUJHE TUMSE KUCH BHI NA CHAHIYE लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

17/5/16

मुझे तुमसे कुछ भी न चाहिए

मुझे तुमसे कुछ भी न चाहिए,
 MUJHE TUMSE KUCH BHI NA CHAHIYE,
 KANHAIYA ,
1959 ,
 MUKESH ,


    SONG


मुझे तुम से कुछ भी न चाहिये
मुझे मेरे हाल पे छोड़ दो
मेरा दिल अगर कोई दिल न था
उसे मेरे सामने तोड़ दो
मैं ये भूल जाऊँगा ज़िंदगी
कभी मुस्कुरायी थी प्यार में
मैं ये भूल जाऊँगा मेरा दिल
कभी खिल उठा था बहार में
जिन्हें इस जहाँ ने भुला दिया
मेरा नाम उन में ही जोड़ दो
मुझे तुम से कुछ भी न चाहिये

मुझे मेरे हाल पे छोड़ दो
तुम्हें अपना कहने की चाह में
कभी हो सके न किसी के हम
यही दर्द मेरे जिगर में है
मुझे मार डालेगा बस ये ग़म
मैं वो गुल हूँ जो न खिला कभी
मुझे क्यों न शाख़ से तोड़ दो
मुझे तुम से कुछ भी न चाहिये
मुझे मेरे हाल पे छोड़ दो
मुझे मेरे हाल पे छोड़ दो
मुझे तुम से कुछ भी न चाहिये