Raat Akeli Hai Bujh Gaye Diye लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Raat Akeli Hai Bujh Gaye Diye लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

31/3/16

रात अकेली है बुझ गए दिये // Raat Akeli Hai Bujh Gaye Diye (Jewel Thief) - Rekha Pande


रात अकेली है बुझ गए दिये
गीतकार : मजरुह सुलतानपुरी,
गायक : आशा भोसले,
संगीतकार : सचिनदेव बर्मन,

         
रात अकेली है, बुझ गए दिये
आके मेरे पास,
कानों में मेरे जो भी चाहे कहिये,
जो भी चाहे कहिये,
रात ...
रुत भी है फ़ुरसत भी है
तुम आज मेरे लिये रुक जाओ,
तुम्हें ना हो ना सही,
तो चुप क्यूँ रहिये जो भी चाहे कहिये,
मुझे तुमसे मुहब्बत है
मुहब्बत की इजाज़त है,
रात ...
सवाल बनी हुई दबी दबी उलझन सीनों में
जवाब देना था, तो डूबे हो पसीनों में ठानी है
दो हसीनों में, तो चुप क्यूँ रहिये जो भी चाहे कहिये, रात ...




पुरुष ग्रंथि (प्रोस्टेट) बढ़ने से मूत्र - बाधा  का  अचूक  इलाज 

*किडनी फेल(गुर्दे खराब ) रोग की जानकारी और उपचार*