baiju bawara लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
baiju bawara लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

11/4/16

बचपन की मूहोब्बत को //BACHPAN KI MOHABBAT KO-Baiju Bawra.flv


बचपन की मूहोब्बत को,
BACHPAN KI MOHABBAT KO
बैजु बावरा,
लता,
1952,

    गाना 

बचपन की मोहब्बत को दिल से न जुदा करना
जब याद मेरी आए मिलने की दुआ करना
घर मेरी उम्मीदों का सूना किए जाते हो
दुनिया ऐ मुहब्बत की लूटे लिए जाते हो
जब याद मेरी आए ...
जो ग़म दिए जाते हो उस ग़म की दुआ करना
सावन में पपीहा का सँगीत सुनाऊँगी

फ़रियाद तुझे अपनी गा-गा कर सुनाऊँगी
आवाज़ मेरी सुन के दिल थाम लिया करना
जब याद मेरी आए ...



मन तडपत हरी दर्शन को// Man Tarpat Hari Darsan ko Aaj

मन तडपत हरी दर्शन को,
 Man Tarpat Hari Darsan ko Aaj,
baiju bawara,
rafi,
1952,
बैजु बावरा,
रफी
                    bhajan


 Hari om, hari om, hari om, hari om....
Man tadpat hari darshan ko aaj 

 More tum bin bigde sagare kaj
 Ho binti karat hu rakhiyo laj
 Man tadpat hari darshan ko aaj
 
 Tumre dwar kaa mai hu jogi aa aa aa aa.........
 Tumre dwar kaa mai hu jogi, humari or najar kab hogi
 Suno more vyakul mann kaa baj
 Man tadpat hari darshan ko aaj 
 
 Bin guru gyan kaha se pau aa aa aa aa.....
 Bin guru gyan kaha se pau, dijo dan hari gun gau
 Sab guni jan pe tumra raj
 Man tadpat hari darshan ko aaj 
 Murli-manohar aas naa todo
 Dukh bhanjan mora sath naa chhodo
 Man tadpat hari darshan ko aaj


दूर कोई गाये // door koi gaye.. shamshad begum- lata- mohmmad rafi -shakeel badayuni- na...

दूर कोई गाये,
 door koi gaye,
  shamshad begum
 lata,
रफी,
 बैजु बावरा,
 1952,
rafi,
 baiju bawara

     SONG 
दूर कोई गाए धुन ये सुनाए
तेरे बिन छलिया रे बाजे न मुरलिया
मन के अंदर हो प्यार की अग्नि
नैना खोये-खोये कि हाय रामा नैन खोये-खोये
अभी से है ये हाल तो आगे राम जाने क्या होए नींद नहीं आए बिरहा सताए
कि हाय रामा पाँव पड़ी ज़ंजीर
तेरे बिन छलिया ... मोरे अँगना लाज का पहरा पाँव पड़ी ज़ंजीर याद किसी की जब-जब आए
तेरे बिन छलिया ...
लागे जीया पे तीर के हाय रामा लगे जीया पे तीर
आँख भर आए जल बरसाये


मोहे भूल गए साँवरिया //mohe bhool gaye sanwariya..Lata- Shakeel Badayuni- Naushad - Baiju Bawra...

बैजु बावरा,
 मोहे भूल गए साँवरिया,
 लता,
 baiju bawara
, mohe bhool gaye sanwariya
Lata, 
1952

गाना
जो मैं ऐसा जानती
के प्रीत किये दुख होय
नगर ढिंढोरा पीटती
के प्रीत न करियो कोय

मोहे भूल गए साँवरिया, भूल गए साँवरिया
आवन कह गये, अजहुं न आये
लीनी न मोरी खबरिया
मोहे भूल गए...

दिल को दिए क्यों दुख बिरहा के

तोड़ दिया क्यों महल बना के
आस दिला के ओ बेदर्दी
फेर ली काहे नजरिया
मोहे भूल गए...

नैन कहे रो-रो के सजना
देख चुके हम प्यार का सपना
प्रीत है झूठी, प्रीतम झूठा
झूठी है सारी नगरिया
मोहे भूल गए...