dulari लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
dulari लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

6/5/16

आँखों मे आ जा दिल मे समा जा Ankhon Mein Aaja Dil Mein Sama Ja

आँखों मे आ जा दिल मे समा जा,
 Ankhon Mein Aaja Dil Mein Sama Ja,
dulari,1949,
लता ,
lata ,

       SONG


आंखो मे आ जा दिल मे समा जा 

मेरी कहानी सुन जा अपनी सुना जा..

आंखो मे आ जा दिल मे समा जा 



बिगड़ी है किस्मत जीवन है फीका 

जीवन है फीका 

आ तुझसे कह दू दुःख अपने जी का.. 

ओ दम भर को आ के मेरी बिगड़ी बना जा 

आंखो मे आ जा दिल मे समा जा 
मेरी कहानी सुन जा अपनी सुना जा 
आंखो मे आ जा दिल मे समा जा 

इस दिल को दुनिया तदपा रही है 
तदपा रही है 
ऐसे मे तेरी याद आ रही है..
ओ आ और आ के मुझे गम से छुड़ा जा 

आंखो मे आ जा दिल मे समा जा 
मेरी कहानी सुन जा अपनी सुना जा 
आंखो मे आ जा दिल मे समा जा 

छोड़े न दुनिया दीवाना कर के 
दीवाना कर के 
जीना भी कोई जीना है मर के.. 
ओ हाय मै कैसे जियू ये तो बता जा 

आंखो मे आ जा दिल मे समा जा 
मेरी कहानी सुन जा अपनी सुना जा 

ए दिल तुझे कसम है // Ae dil tujhe kasam hai -DULARI (1949)

ए दिल तुझे कसम है,
 Ae dil tujhe kasam hai,
lata,
 DULARI ,
1949,



ए दिल तुझे कसम है, तू, हिम्मत न हारना 
दिन ज़िन्दगी के जैसे भी गुज़ारे गुजारना 
ए दिल तुझे कसम है ... 

उल्फत के रास्ते मे मिलेगे हज़ार गम 
बन जाए जान पर भी तो गम से न हारना 
ए दिल तुझे कसम है ... 

रोने से कम न होंगे कभी तेरी मुशकिले 
बिगड़े हुए नसीब को हंस कर संवारना 
ए दिल तुझे कसम है ... 

दुनिया सितम करे तो न करना गिला कोई 
जो तेरे हो चुके है तू उनको पुकारना 
ए दिल तुझे कसम है ...


*किडनी फेल(गुर्दे खराब ) रोग की जानकारी और उपचार*

गठिया ,घुटनों का दर्द,कमर दर्द ,सायटिका  के अचूक उपचार 



23/3/16

सुहानी रात ढल चुकी //Suhani Raat Dhal Chuki - Madhubala - Suresh - Dulari - Bollywood Songs -...

सुहानी रात ढल चुकी 
Suhani Raat Dhal Chuki 
गीतकार : शकिल बदायुनी,
 गायक : मोहम्मद रफी,
 चित्रपट : दुलारी /

        
सुहानी रात ढल चुकी
ना जाने तुम कब आओगे
जहाँ की रुत बदल चुकी ऽ ऽ ऽ
ना जाने तुम कब आओगे

नज़ारे ऽ ऽ ऽ अपनी मस्तियां
दिखा दिखा के सो गये
सितारे ऽ ऽ ऽ अपनी रौशनी
लुटा लुटा के सो गये
हर एक शम्मा जल चुकी
ना जाने तुम कब आओगे
सुहानी रात ढल चुकी ...

तड़प रहे हैं हम यहाँ
तुम्हारे इंतज़ार में
खिज़ा का रंग, आ चला है
मौसम-ए-बहार में
मौसम-ए-बहार में
हवा भी रुख बदल चुकी ऽ ऽ ऽ
ना जाने तुम कब आओगे

सुहानी रात ढल चुकी
ना जाने तुम कब आओगे


कान दर्द,कान पकना,बहरापन के उपचार 

नीलगिरी तेल के स्वास्थ्य लाभ

सुहागा के गुण,प्रयोग,उपचार 

*किडनी फेल(गुर्दे खराब ) रोग की जानकारी और उपचार*

गठिया ,घुटनों का दर्द,कमर दर्द ,सायटिका के अचूक उपचार