gumrah लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
gumrah लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

12/10/15

तुझको मेरा प्यार पुकारे // GUMRAH - Tujhko Mera Pyar Pukare (Duet)

तुझको मेरा प्यार पुकारे
 GUMRAH 
 Tujhko Mera Pyar Pukare 

                 SONG 
इन हवाओं में, इन फ़िज़ाओं में तुझको मेरा प्यार पुकारे
आजा आजा रे, तुझको मेरा प्यार पुकारे
रुक ना पाऊं मैं, खिचती आऊं मैं, दिल को जब दिलदार पुकारे
आजा आजा रे तुझको मेरा पुकारे
तुझसे रंगत, तुझसे मस्ती इन झरनो में, इन फूलों में
आजा आजा रे
तेरे दम से मेरी हस्ती झूले चाहत के झूलों में
मचली जायें शोख उमंगे, दो बाहों का हार पुकारे
ज़ुल्फ़ों का हर पेंच बुलाये, आँचल का हर तार पुकारे
दिल में तेरे दिल की धड़कन, आँख में तेरी आँख का जादु
लब पर तेरे लब के संग, साँस में तेरी साँस की खुशबू
आजा आजा रे, तुझको मेरा प्यार पुकारे

दिल को जब दिलदार पुकारे

इन हवाओं में, इन फ़िज़ाओं में तुझको मेरा प्यार पुकारे
आजा आजा रे, तुझको मेरा प्यार पुकारे

रुक ना पाऊं मैं, खिंचती आऊं मैं
लौट रही हैं मेरी सदायें दीवरों से सर टकरा के
कल बाहों का हार मिला था, आज अश्कों का हार पुकारे
हाथ पकड़ कर चलने वाले हो गये रुख़सत हाथ छुड़ाके
उनको कुछ भी याद नहीं है, अब कोई सौ बार पुकारे
इल्म नहीं था इतनी जल्दी खतम फ़साने हो जायेंगे
तुम बेगाने बन जाओगे, हम दीवाने हो जायेंगे
आजा आजा रे, तुझको मेरा प्यार पुकारे


*किडनी फेल(गुर्दे खराब ) रोग की जानकारी और उपचार*

गठिया ,घुटनों का दर्द,कमर दर्द ,सायटिका के अचूक उपचार 

गुर्दे की पथरी कितनी भी बड़ी हो ,अचूक हर्बल औषधि

पित्त पथरी (gallstone) की अचूक औषधि 


चलो एक बार फिर से अजनबी बन जाएँ// Chalo Ek Baar Phir Se


चलो इक बार फिर से,
गीतकार : साहिर लुधियानवी,
गायक : महेंद्र कपूर,
चित्रपट : गुमराह 
 Saahir Ludhiyanvi,
 Mahendra Kapoor,
 Gumrah
 1963

              गाना

चलो इक बार फिर से, अजनबी बन जाएं हम दोनो
चलो इक बार फिर से ...

न मैं तुमसे कोई उम्मीद रखूँ दिलनवाज़ी की
न तुम मेरी तरफ़ देखो गलत अंदाज़ नज़रों से
न मेरे दिल की धड़कन लड़खड़ाये मेरी बातों से
न ज़ाहिर हो तुम्हारी कश्म\-कश का राज़ नज़रों से
चलो इक बार फिर से ...

तुम्हें भी कोई उलझन रोकती है पेशकदमी से
मुझे भी लोग कहते हैं कि ये जलवे पराए हैं
मेरे हमराह भी रुसवाइयां हैं मेरे माझी की \- २
तुम्हारे साथ भी गुज़री हुई रातों के साये हैं
चलो इक बार फिर से ...

तार्रुफ़ रोग हो जाये तो उसको भूलना बेहतर
ताल्लुक बोझ बन जाये तो उसको तोड़ना अच्छा
वो अफ़साना जिसे अंजाम तक लाना ना हो मुमकिन \- २
उसे एक खूबसूरत मोड़ देकर छोड़ना अच्छा
चलो इक बार फिर से ...
पुरुष ग्रंथि (प्रोस्टेट) बढ़ने से मूत्र - बाधा का अचूक इलाज 

*किडनी फेल(गुर्दे खराब ) रोग की जानकारी और उपचार*

गठिया ,घुटनों का दर्द,कमर दर्द ,सायटिका के अचूक उपचार 

गुर्दे की पथरी कितनी भी बड़ी हो ,अचूक हर्बल औषधि


.