mukesh लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
mukesh लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

17/5/16

मुझे तुमसे कुछ भी न चाहिए

मुझे तुमसे कुछ भी न चाहिए,
 MUJHE TUMSE KUCH BHI NA CHAHIYE,
 KANHAIYA ,
1959 ,
 MUKESH ,


    SONG


मुझे तुम से कुछ भी न चाहिये
मुझे मेरे हाल पे छोड़ दो
मेरा दिल अगर कोई दिल न था
मुझे मेरे हाल पे छोड़ दो
उसे मेरे सामने तोड़ दो
मैं ये भूल जाऊँगा ज़िंदगी
मुझे तुम से कुछ भी ...


कभी मुस्कुरायी थी प्यार में
जिन्हें इस जहाँ ने भुला दिया
मैं ये भूल जाऊँगा मेरा दिल
कभी खिल उठा था बहार में
मेरा नाम उन में ही जोड़ दो
यही ददर् मेरे जिगर में है
मुझे तुम से कुछ भी ...


तुम्हें अपना कहने की चाह में
कभी हो सके न किसी के हम
मुझे तुम से कुछ भी ...
मुझे मार डालेगा बस ये ग़म
मैं वो गुल हूँ जो न खिला कभी
मुझे क्यों न शाख़ से तोड़ दो

7/5/16

मैं खुश नसीब हूँ मुझको किसी का प्यार मिला // MAIN KHUSH NASEEB HOON MUJHKO KISI KA PYAR MILA(HIGH AUDIO QUALITY).

मैं खुश  नसीब हूँ मुझको किसी का प्यार मिला
 MAIN KHUSH NASEEB HOON
 टावर हाउस 

SONG
मैं ख़ुशनसीब हूँ मुझ को किसी का प्या मिला
बड़ा हसीन मेरे दिल का राज़दार मिला
है दिल में प्यार ज़ुबाँ चुप झुकी झुकी नज़रें
मैं ख़ुशनसीब हूँ अजब अदा से कोई आज पहली बार मिला
किसी को पाके मेरे दिल का हाल मत पूछो
मैं ख़ुशनसीब हूँ कि जैसे सारे ज़माने पे इख़्तियार मिला
मेरी वफ़ा का सिला मुझ को शानदार मिला
मैं ख़ुशनसीब हूँ किसी ने पूरे किये आज प्यार के वादे मैं ख़ुशनसीब हूँ
वो क्या मिले मुझे मौसम-ए-बहार मिला
मेरे चमन का हर एक फूल मुस्कुराने लगा

13/4/16

ओह रे ताल मिले नदी के जल मेंOh re taal mile nadi ke jal me

ओह रे ताल मिले नदी के जल में,
Oh re taal mile nadi ke jal me,
1968,
mukesh
film- Anokhi raat


         

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

भजन सरोवर

herbal Upchar

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

kavya Manjusha

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

घरेलू,आयुर्वेदिक,प्राकृतिक उपचार

आध्यात्म,साहित्य,इतिहास,सामान्य ज्ञान

उपचाए एवं आरोग्य

आध्यात्म,साहित्य,इतिहास,सामान्य ज्ञान

Enter your email address:

Translate

पाठक संख्या

विशिष्ट पोस्ट

तेरे बिन नइ लगदा दिल मेरा ढोलना-नेहा दीपेश गोहील भावनगर की दामोदर महिला संगीत मे प्रस्तुति

ओ रे पिया मैं तां तेरे लई सौ रातां जगूँ जित्थे जावें तू ओत्थे जावे दिल दस की मैं करूँ जो तू रुस जानियें, दिल ये टुट जानियें तेरे संग-संग...

मेरी ब्लॉग सूची

"herbal Upchar

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

सरल नुस्खे सेहत उपकार

उपचार और आरोग्य

लेबल