rafi लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
rafi लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

5/8/16

राज ए दिल उनसे न छिपाया न गया// raaz-e-dil unse chhupaya na gaya..Rafi_Asad Bhopali_Ravi..a tribute

राज ए दिल उनसे न छिपाया  न गया,
 raaz-e-dil unse chhupaya na gaya..
Rafi,
Asad Bhopali,

     SONG

Raaz e dil unse chupaya na gaya - 2
Pyar ki aag kuch aisi bhadki - 2
Ek shola bhi dabaya na gaya - 2
Raaz e dil unse chupaya na gaya

Pahle pahle to mujhe
Dil ko tadpate rahe
Wo samajh bhi na sake
Mujhako tarsate rahe
Dil se dil phir bhi milaya na gaya
Aankh se aankh kai baar mili - 2
Pyaar ki aag kuch aisi bhadki
Aankh milate hi jhuki
Ek shola bhi dabaya na gaya
Raaz e dil unse chupaya na gaya

Baat hotho pe ruki
Unse daaman bhi bachaya na gaya
Berukhi pyar bani
Jeet bhi har bani
Kar gai kaam mohabbat ki nazar - 2
Raaz e dil unse chupaya na gaya
Pyaar ki aag kuch aisi bhadki - 2
Ek shola bhi dabaya na gaya


13/5/16

तुझे जीवन की डोर से बांध लिया है //Tujhe Jeevan Ki Dor - Dev Anand - Sadhana - Asli Naqli - Lata - Rafi - E...

तुझे जीवन की डोर  से बांध लिया है,
  Tujhe Jeevan Ki Dor,
  Asli Naqli ,
Lata, 
Rafi,




     SONG
रफ़ी: तुझे जीवन की डोर से, बाँध लिया है, बाँध लिया है तेरे ज़ुल्म-ओ-सितम, सर आँखों पर लता: मैने बदले में प्यार के, प्यार दिया है, प्यार दिया है तेरी खुशियाँ और गम, सर आँखों पर रफ़ी: तुझे जीवन की ... अप्सरा कोई आए तो देखूँ नहीं
ओ ... तोरे मतवारे नैनों ने, जादू किया
कोई बहकाये हंसके तो बहकूँ नहीं
तोरे मतवारे नैनों ने, जादू किया तेरी उल्फ़त सनम सर आँखों पर ... ओ ... लिये फ़िरते हैं सबसे छुपाये हुए मेरे जीवन की अनमिट कहानी है तू मेरी तक़दीर और ज़िंदगानी है तू लिये फ़िरते हैं सबसे छुपाये हुए तेरी तसवीर हम सर आँखों पर ... ओ तेरे चेहरे की झिलमिल से मंज़िल मिली
चाँद सूरज भी हैं तेरी परछाइयाँ तुझ से रोशन हुई दिल की गहराइयाँ


तेरे चेहरे की झिलमिल से मंज़िल मिली

ऐसी प्यारी पूनम सर आँखों पर ...

तेरे ज़ुल्मो-सितम, सर आँखों पर
दोनो: तुझे जीवन की डोर से, बाँध लिया है, बाँध लिया है



---

8/5/16

गरीब जानके हम को ना तुम द्गा देना // GARIB JAANKE(1956)CHHOO MANTAR ORIGINAL (HQ)



गरीब जानके हम को ना तुम द्गा देना
GARIB JAANKE
rafi
1956
CHHOO MANTAR


    SONG
गरीब जान के हम को न तुम दग़ा देना
तुम्हीं ने ददर् दिया है तुम्हीं दवा देना
गरीब जान के ...


तड़प रहे हैं मुहब्बत में इक नज़र के लिये
लगी है चोट कलेजे पे उम्र भर के लिये
नज़र मिलाके
तुम्हीं ने ददर् दिया है .
नज़र मिलाके नज़रों से न तुम गिरा देना


तुम्हारी याद हम.एन हर घड़ी सतायेगी
तुम्हारी याद को मुशकिल है अब भुला देना
तुम्हारे बिन तो हमें मौत भी न आयेगी
तुम्हारी याद को
तुम्हीं ने ददर् दिया है ...



चाँद मेरा दिल चाँदनी हो तुम// Muhammad Rafi - Chand Mera Dil Chandni Ho Tum - Hum Kisi Se Kum Nahi...

चाँद मेरा दिल चाँदनी हो तुम 
Chand Mera Dil Chandni Ho Tum
रफी,
हम किसी से कम नहीं 
1977

      SONG
चाँद मेरा दिल, चाँदनी हो तुम
चाँद से है दूर, चाँदनी कहाँ
जा रहे हो तुम, जाओ मेरी जां
लौट के आना, है यहीं तुमको



मिलेगा सच्चा प्यार मुश्किल से
वैसे तो हर क़दम, मिलेंगे लोग सनम
दिल से दिल है मिलता यार मुश्किल से
दिल की दोस्ती, खेल नहीं कोई
यही तो है सनम, प्यार का ठिकाना
आ, दिल क्या, महफ़िल है तेरे
मैं हूँ, मैं हूँ, मैं हूँ ...
चाँद मेरा दिल ...
क़दमों में आ, दिल क्या, महफ़िल है तेरे


जाने वफ़ा, तुझपे मैं फ़िदा, हो हो हो
दुनिया की बहारें तेरे लिये
चाँद सितारे तेरे लिये, ओ ...
जाने अदा, हो हो हो, जाने वफ़ा
जाने वफ़ा, तुझपे मैं फ़िदा
ओ तुम क्या जानो, मुहब्बत क्या है
हो, आ, दिल क्या, महफ़िल है तेरे
क़दमों में आ, दिल क्या, महफ़िल है तेरे
दुनिया ...
आ, दिल क्या ...
दिल की महफ़िल ये महफ़िल नहीं दिल है
और तू मेरे लिये
मिल गया हमको साथी मिल गया
हमसे गर कोई जल गया
हो हो जलने दे
चल गया प्यार का जादु चल गया
हो हो चलने दे
तेरे लिये, ज़माना तेरे लिये


ऐ मेरी ज़ोहरा जबीं, तुझे मालूम नहीं //Aye Meri Zohra Jabeen - Waqt

ऐ मेरी ज़ोहरा जबीं, तुझे मालूम नहीं ,
Aye Meri Zohra Jabeen,
वक़्त
rafi 

         SONG 


ऐ मेरी ज़ोहरा-ज़बीं
तुझे मालूम नहीं
तू अभी तक है हंसीं
और मैं जवाँ
तुझपे क़ुरबान मेरी जान मेरी जान
ऐ मेरी ...


ये शोखियाँ ये बाँकापन
दिलों को जीतने का फ़न
जो तुझ में है कहीं नहीं
जो तुझ में है कहीं नहीं
मैं तेरी
तू मीठे बोल जान-ए-मन
मैं तेरी आँखों में पा गया दो जहाँ
ऐ मेरी ...


जो मुस्कुराके बोल दे
तो धडकनों में आज भी
ऐ मेरी ...
शराबी रंग घोल दे
ओ सनम
ओ सनम मैं तेरा आशिक़-ए-जाबिदाँ

 

7/5/16

आए हैं दूर से // Aaye Hai Door Se - Shammi Kapoor, Ameeta, Tumsa Nahin Dekha Song (Duet)

आए हैं दूर से ,
 Aaye Hai Door Se,
फिल्म -तुम सा नहीं देखा ,
रफी,आशा भोसले 
1957

        SONG
आशा- आए हैं दूर से, मिलने हज़ूर से
ऐसे भी चुप न रहिये, कहिये जी कुछ तो कहिये
दिन है के रात है
रफ़ी- हाय--
लाखों ही ज़ुल्फ़ों वाले, आती हैं घेरा डाले
तुमसे मेहमान क्या, मुझपे अहसान क्या
मेरी क्या बात है
शरमाना छोड़िये, ये क्या अदा है
आशा- आये हैं दूर से--ठ के तो देखिये, कैसी फ़िज़ा है
आशा- आये हैं दूर से--
रफ़ी- तौबा ये क्या फ़रमाया
मैं तो यूँ ही शरमाया

रफ़ी- ओ ओ ओ--
मेरी क्या बात है
तुमसे मेहमान का--
दिखती है रोज़ ही, ऐसी फ़िज़ाएं
मुखड़े के सामने, काली घटाएं
आशा- कोई चल जाए जादू, फिर हम पूछेंगे बाबू
दिन है के रात है--
रफ़ी- ओ ओ ओ--
आशा- आ आ आ--
तुमसे मेहमान का--
आये हैं दूर से--

6/5/16

कभी न कभी कहीं न कहीं // Kabhi na kabhi, kahin na kahin, koi na koi to aayega"- SHARABI

कभी न कभी कहीं न कहीं
 Kabhi na kabhi, kahin na kahin, koi na koi to aayega
SHARABI
रफी 

       SONG

कभी न कभी कहीं न कहीं कोई न कोई तो आयेगा
अपना मुझे बनायेगा दिल में मुझे बसायेगा

कब से तन्हा ढूँढ राहा हूँ दुनियाँ के वीराने में
खाली जाम लिये बैठा हूँ कब से इस मैखाने में
कोई तो होगा मेरा साक़ी कोई तो प्यास बुझायेगा
कभी न कभी ...

किसी ने मेरा दिल न देखा न दिल का पैग़ाम सुना
मुझको बस आवारा समझा जिस ने मेरा नाम सुना
अब तक तो सब ने ठुकराया कोई तो पास बिठायेगा
कभी न कभी ...

कभी तो देगा सन्नाटे में प्यार भरी आवाज़ कोई
कौन ये जाने कब मिल जाये रस्ते में हम्राज़ कोई
मेरे दिल का दर्द समझ कर दो आँसु तो बहायेगा
कभी न कभी ...

11/4/16

जरा सामने तो आओ छलिए //Jara samne to aao chaliye

 ज़रा सामने तो आओ छलिये - 
zaraa saamane to aao chhaliye
 Janam Janam ke Phere
गीतकार  भरत व्यास
 लता मंगेशकर-Lata Mangeshkar
 मोहम्मद रफ़ी

SONG

ज़रा सामने तो आओ छलिये
छुप छुप छलने में क्या राज़ है
यूँ छुप ना सकेगा परमात्मा
ज़रा सामने ...
मेरी आत्मा की ये आवाज़ है

पिता अपने बालक से बिछुड़ से
हम तुम्हें चाहे तुम नहीं चाहो
ऐसा कभी नहीं हो सकता
जब हाथ में तिहारे मेरी लाज है
सुख से कभी नहीं सो सकता
हमें डरने की जग में क्या बात है
प्रेम की है ये आग सजन जो
यूँ छुप ना सकेगा परमात्मा
मेरी आत्मा की ये आवाज़ है
ज़रा सामने ...

तेरी प्रीत पे बड़ा हमें नाज़ है
इधर उठे और उधर लगे
प्यार का है ये क़रार जिया अब
इधर सजे और उधर सजे
ज़रा सामने ...
मेरे सर का तू ही सरताज है
यूँ छुप ना सकेगा परमात्मा
मेरी आत्मा की ये आवाज़ है



मन तडपत हरी दर्शन को// Man Tarpat Hari Darsan ko Aaj

मन तडपत हरी दर्शन को,
 Man Tarpat Hari Darsan ko Aaj,
baiju bawara,
rafi,
1952,
बैजु बावरा,
रफी
                    bhajan


 Hari om, hari om, hari om, hari om....
Man tadpat hari darshan ko aaj 

 More tum bin bigde sagare kaj
 Ho binti karat hu rakhiyo laj
 Man tadpat hari darshan ko aaj
 
 Tumre dwar kaa mai hu jogi aa aa aa aa.........
 Tumre dwar kaa mai hu jogi, humari or najar kab hogi
 Suno more vyakul mann kaa baj
 Man tadpat hari darshan ko aaj 
 
 Bin guru gyan kaha se pau aa aa aa aa.....
 Bin guru gyan kaha se pau, dijo dan hari gun gau
 Sab guni jan pe tumra raj
 Man tadpat hari darshan ko aaj 
 Murli-manohar aas naa todo
 Dukh bhanjan mora sath naa chhodo
 Man tadpat hari darshan ko aaj


दूर कोई गाये // door koi gaye.. shamshad begum- lata- mohmmad rafi -shakeel badayuni- na...

दूर कोई गाये,
 door koi gaye,
  shamshad begum
 lata,
रफी,
 बैजु बावरा,
 1952,
rafi,
 baiju bawara

     SONG 
दूर कोई गाए धुन ये सुनाए
तेरे बिन छलिया रे बाजे न मुरलिया
मन के अंदर हो प्यार की अग्नि
नैना खोये-खोये कि हाय रामा नैन खोये-खोये
अभी से है ये हाल तो आगे राम जाने क्या होए नींद नहीं आए बिरहा सताए
कि हाय रामा पाँव पड़ी ज़ंजीर
तेरे बिन छलिया ... मोरे अँगना लाज का पहरा पाँव पड़ी ज़ंजीर याद किसी की जब-जब आए
तेरे बिन छलिया ...
लागे जीया पे तीर के हाय रामा लगे जीया पे तीर
आँख भर आए जल बरसाये


ओ दुनिया के रखवाले // O Duniya Ke Rakhwale - Mohammed Rafi - BAIJU BAWARA - Meena Kumari,Bhara...

ओ दुनिया के रखवाले,
 O Duniya Ke Rakhwale,
रफी,
बेजू बावरा,
baiju bawara,
rafi,
 1952
    गाना 

ओ दुनिया के रखवाले, सुन दर्द भरे मेरे नाले
सुन दर्द भरे मेरे नाले
आश निराश के दो रंगों से, दुनिया तूने सजाई
नय्या संग तूफ़ान बनाया, मिलन के साथ जुदाई
जा देख लिया हरजाई
ओ ... लुट गई मेरे प्यार की नगरी, अब तो नीर बहा ले
अब तो नीर बहा ले
ओ ... अब तो नीर बहा ले, ओ दुनिया के रखवाले ...

आग बनी सावन की बरसा, फूल बने अंगारे
नागन बन गई रात सुहानी, पत्थर बन गए तारे
सब टूट चुके हैं सहारे, ओ ... जीवन अपना वापस ले ले
जीवन देने वाले, ओ दुनिया के रखवाले ...

चांद को ढूँढे पागल सूरज, शाम को ढूँढे सवेरा
मैं भी ढूँढूँ उस प्रीतम को, हो ना सका जो मेरा
भगवान भला हो तेरा, ओ ... क़िस्मत फूटी आस न टूटी
पांव में पड़ गए छाले, ओ दुनिया के रखवाले ...

महल उदास और गलियां सूनी, चुप\-चुप हैं दीवारें
दिल क्या उजड़ा दुनिया उजड़ी, रूठ गई हैं बहारें
हम जीवन कैसे गुज़ारें, ओ ... मंदिर गिरता फिर बन जाता
दिल को कौन सम्भाले, ओ दुनिया के रखवाले ...

ओ दुनिया के रखवाले
रखवाले
रखवाले
रखवाले

तू गंगा की मौज मे// BAIJU BAWRA=TU GANGA KI MAUJ ME JAMNA KA DHAR JHANKAR M RAFI


Movie/Album: बैजू बावरा (1952)
Music By: नौशाद अली
Lyrics By: शकील बदायुनी
Performed By: मो.रफ़ी, लता मंगेशकर
                     गीत 
अकेली मत जइयो राधे जमुना के तीर

तू गंगा की मौज, मैं जमुना का धारा
हो रहेगा मिलन, ये हमारा
हमारा, तुम्हारा रहेगा मिलन
ये हमारा तुम्हारा

अगर तू है सागर तो मझधार मैं हूँ
तेरे दिल की कश्ती का पतवार मैं हूँ
चलेगी अकेले न तुमसे ये नैय
मिलेंगी न मंज़िल तुम्हें बिन खेवैया
चले आओ जी, चले आओ जी
चले आओ मौजों का ले कर सहारा, हो रहेगा मिलन
ये हमारा तुम्हारा...
<br />
Movie/Album: बैजू बावरा (1952)
Music By: नौशाद अली
Lyrics By: शकील बदायुनी
Performed By: मो.रफ़ी, लता मंगेशकर

अकेली मत जइयो राधे जमुना के तीर

तू गंगा की मौज, मैं जमुना का धारा
हो रहेगा मिलन, ये हमारा
हमारा, तुम्हारा रहेगा मिलन
ये हमारा तुम्हारा

अगर तू है सागर तो मझधार मैं हूँ
तेरे दिल की कश्ती का पतवार मैं हूँ
चलेगी अकेले न तुमसे ये नैय
मिलेंगी न मंज़िल तुम्हें बिन खेवैया
चले आओ जी, चले आओ जी
चले आओ मौजों का ले कर सहारा, हो रहेगा मिलन
ये हमारा तुम्हारा...

भला कैसे टूटेंगे बंधन ये दिल के
बिछड़ती नहीं मौज से मौज मिल के
छुपोगे भँवर में तो छुपने न देंगे
डुबो देंगे नैया तुम्हें ढूँढ लेंगे
बनायेंगे हम, बनायेंगे हम
बनायेंगे तूफ़ाँ को लेकर किनारा, हो रहेगा मिलन
ये हमारा तुम्हारा...
भला कैसे टूटेंगे बंधन ये दिल के
बिछड़ती नहीं मौज से मौज मिल के
छुपोगे भँवर में तो छुपने न देंगे
डुबो देंगे नैया तुम्हें ढूँढ लेंगे
बनायेंगे हम, बनायेंगे हम
बनायेंगे तूफ़ाँ को लेकर किनारा, हो रहेगा मिलन
ये हमारा तुम्हारा..
.

29/3/16

ले के पहला पहला प्यार Leke Pehla Pehla Pyar - Dev Anand, Shakila, Shamshad Begum, Mohd Rafi, C...



ले के पहला पहला प्यार
गीतकार : मजरुह सुलतानपुरी,
गायक : आशा - रफी - शमशाद बेगम,
संगीतकार : ओ. पी. नय्यर,
चित्रपट : सी. आय. डी. 
१९५६
Lyricist : Majrooh Sultanpuri,
Singer : Asha Bhosle - Mohammad Rafi - Shamshad Begum,
Music Director : O. P. Nayyar,


     गाना 

 लेके पहला-पहला प्यार
भर के आँखों में खुमार
जादू नगरी से आया है कोई जादूगर

उसकी दीवानी हाय कहूँ कैसे हो गई
जादूगर चला गया मैं तो यहाँ खो गई
नैना जैसे हुए चार
गया दिल का क़रार
जादू नगरी से...

तुमने तो देखा होगा उसको सितारों
आओ ज़रा मेरे संग मिल के पुकारो
दोनों हो के बेक़रार
ढूँढे तुझको मेरा प्यार
जादू नगरी से...

जब से लगाया तेरे प्यार का काजल
काली-काली बिरहा की रतियां हैं बेकल
आजा मन के श्रृंगार
करे बिन्दिया पुकार
जादू नगरी से...

मुखड़े पे डाले हुए ज़ुल्फ़ों की बदली
चली बलखाती कहाँ रुक जा ओ पगली
नैनों वाली तेरे द्वार
ले के सपने हज़ार
जादू नगरी से...



चाहे कोई चमके जी चाहे कोई बरसे
बचना है मुश्किल पिया जादूगर से
देगा ऐसा मन्तर मार
आखिर होगी तेरी हार
जादू नगरी से...

सुन-सुन बातें तेरी गोरी मुस्काई रे
आई-आई देखो-देखो आई हँसी आई रे
खेले होठों पे बहार
निकला गुस्से से भी प्यार
जादू नगरी से

  

23/3/16

सुहानी रात ढल चुकी //Suhani Raat Dhal Chuki - Madhubala - Suresh - Dulari - Bollywood Songs -...

सुहानी रात ढल चुकी 
Suhani Raat Dhal Chuki 
गीतकार : शकिल बदायुनी,
 गायक : मोहम्मद रफी,
संगीतकार : नौशाद,
 चित्रपट : दुलारी /
 Lyricist : Shakeel Badayuni,
 Singer : Mohammad Rafi,
Music Director : Naushad,
Movie : Dulari 
         गाना 
सुहानी रात ढल चुकी
ना जाने तुम कब आओगे
जहाँ की रुत बदल चुकी ऽ ऽ ऽ
ना जाने तुम कब आओगे

नज़ारे ऽ ऽ ऽ अपनी मस्तियां
दिखा दिखा के सो गये
सितारे ऽ ऽ ऽ अपनी रौशनी
लुटा लुटा के सो गये
हर एक शम्मा जल चुकी
ना जाने तुम कब आओगे
सुहानी रात ढल चुकी ...

तड़प रहे हैं हम यहाँ
तुम्हारे इंतज़ार में
खिज़ा का रंग, आ चला है
मौसम-ए-बहार में
मौसम-ए-बहार में
हवा भी रुख बदल चुकी ऽ ऽ ऽ
ना जाने तुम कब आओगे

सुहानी रात ढल चुकी
ना जाने तुम कब आओगे

12/10/15

तुझे जीवन की डोर से // tujhe jeevan ki dor se

तुझे जीवन की डोर से
 tujhe jivan ki dor se
 असली नकली,
 रफी,
 लता

      song

रफ़ी: तुझे जीवन की डोर से, बाँध लिया है, बाँध लिया है
तेरे ज़ुल्म-ओ-सितम, सर आँखों पर
लता: मैने बदले में प्यार के, प्यार दिया है, प्यार दिया है
तेरी खुशियाँ और गम, सर आँखों पर
रफ़ी: तुझे जीवन की ...


अप्सरा कोई आए तो देखूँ नहीं
ओ ... तोरे मतवारे नैनों ने, जादू किया
कोई बहकाये हंसके तो बहकूँ नहीं
तोरे मतवारे नैनों ने, जादू किया
तेरी उल्फ़त सनम सर आँखों पर ...


ओ ... लिये फ़िरते हैं सबसे छुपाये हुए
मेरे जीवन की अनमिट कहानी है तू
मेरी तक़दीर और ज़िंदगानी है तू
लिये फ़िरते हैं सबसे छुपाये हुए
तेरी तसवीर हम सर आँखों पर ...


ओ तेरे चेहरे की झिलमिल से मंज़िल मिली
चाँड सूरज भी हैं तेरी परछाइयाँ
तुझ से रोशन हुई दिल की गहराइयाँ
तेरे चेहरे की झिलमिल से मंज़िल मिली
ऐसी प्यारी पूनम सर आँखों पर ...


तेरे ज़ुल्मो-सितम, सर आँखों पर
दोनो- तुझे जीवन की डोर से, बाँध लिया है, बाँध लिया है


8/9/15

दिल जो न कह सका //Dil Jo Na Keha Saka

गीतकार : मजरुह सुलतानपुरी,
संगीतकार : रोशन,
गायक : मोहम्मद रफी,
 चित्रपट : भीगी रात 
 Lyricist : Majrooh Sultanpuri,,
Music Director : Roshan,
 Singer : Mohammad Rafi,
Movie : Bheegi Raat 
1965
रफ़ी

           गाना
दिल जो न कह सका
वही राज़-ए-दिल कहने की रात आई
दिल जो न कह सका
नग्मा सा कोई जाग उठा बदन में

झनकार की सी थरथरी है तन में
मुबारक तुम्हें किसी की
लरजती सी बाहों में रहने की रात आई
दिल जो न कह सका...


तौबा ये किस ने अंजुमन सजा के
टुकड़े किये हैं गुंच-ए-वफ़ा के
उछालो गुलों के टुकड़े
के रंगीं फ़िज़ाओं में रहने की रात आई
दिल जो न कह सका...


चलिये मुबारक ये जश्न दोस्ती का
दामन तो थामा आपने किसी का
हमें तो खुशी यही है
तुम्हें भी किसी को अपना कहने की रात आई
दिल जो न कह सका...


सागर उठाओ दिल का किस को ग़म है</
आज दिल की क़ीमत जाम से भी कम है
पियो चाहे खून-ए-दिल हो
के पीते पिलाते ही रहने की रात आई
दिल जो न कह सका...


लता:
दिल जो ना कह सका

वही राज-ए-दिल, कहने की रात आई


नग्मा सा कोई जाग उठा बदन में
झनकार की सी थरथरी है तन में
प्यार की इन्हीं धड़कती फ़िज़ाओं में
रहने की रात आई...


अब तक दबी थी एक मौज-ए-अरमां
लब तक जो आई, बन गई हैं तूफां
बात प्यार की बहकती निगाहों से
कहने की रात आई...


गुज़रे ना ये शब, खोल दूँ ये जुल्फें
तुम को छुपा लूँ, मूँद के ये पलकें
बेक़रार सी लरज़ती सी छाँव में
रहने की रात आई...


आजा रे परदेसी//गीतकार : हसरत जयपुरी, गायक : लता - रफी, संगीतकार : शंकर जयकिशन, चित्रपट : प्रोफेसर (१९६२) / Lyricist : Hasrat Jaipuri, Singer : Lata Mangeshkar - Mohammad Rafi, Music Director : Shankar Jaikishan, Movie : Professor (1962) Aaja Re Perdesi, Main To Kab Se Khadi Is Paar

आजा रे परदेसी
गीतकार : शैलेन्द्र,
 गायक : लता मंगेशकर,
 संगीतकार : सलील चौधरी,
 Lyricist : Shailendra,
 Singer : Lata Mangeshkar,
Music Director : Saleel Chowdhury,
Movie : Madhumati 
1958

                Song 
aaja re pardesi, mai to kab se khadi is paar
ye ankhiya thak gayi panth nihaar
aaja re pardesi, mai to kab se khadi is paar
ye ankhiya thak gayi panth nihaar
aaja re pardesi


mai diye ki aisi baati jal na saki jo bujh bhi na paati
mai diye ki aisi baati jal na saki jo bujh bhi na paati
aa mil mere jivan saathi, o
aaja re, mai to kab se khadi is paar
ye ankhiya thak gayi panth nihaar
aaja re pardesi


tum sang janam janam ke phere bhul gaye kyu saajan mere
tum sang janam janam ke phere bhul gaye kyu saajan mere
tadapat hu mai saanjh savere, o
aaja re, mai to kab se khadi is paar
ye ankhiya thak gayi panth nihaar
aaja re pardesi


mai nadiya phir bhi mai pyasi, bhed ye gahra baat zara si
mai nadiya phir bhi mai pyasi, bhed ye gahra baat zara si
bin tere har raat udaasi, o
aaja re, mai to kab se khadi is paar
ye ankhiya thak gayi panth nihaar
aaja re pardesi