suraiya लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
suraiya लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

10/5/16

ये कैसी अजब दास्तां हो गई है // SURAIYA-YE KAISI AJAB DASTA HO GAYE HE-FILM-RUSTAM SOHRAB.wmv

ये कैसी अजब दास्तां हो गई है,
SURAIYA,
YE KAISI AJAB DASTA HO GAYE HE,
FILM-RUSTAM SOHRAB


    

SONG

ये कैसी अजब दास्ताँ हो गई है
छुपाते छुपाते बयाँ हो गई है
ये दिल का धड़कना, ये नज़रों का झुकना
ये कैसी...


ख़ुदा जाने क्या दास्ताँ हो गई है
जिगर में जलन सी ये साँसों का रुकना
बुझा दो बुझा दो, बुझा दो सितारों की शम्में बुझा दो
छुपाते छुपाते बयाँ हो गई है
ये कैसी....


यहाँ रौशनी महमाँ हो गई है
छुपा दो छुपा दो, छुपा दो हसीं चाँद को भी छुपा दो
आ-आ
ये कैसी....


कि लुट जाऊँ मैं नाम लेकर वफ़ा का
इलाही ये तूफ़ान है किस बला का
कि हाथों से छुटा है दामन हया का
ख़ुदा की क़सम आज दिल कह रहा है
छुपाते छुपाते.....
तमन्ना तड़प कर जवाँ हो गई है
आ-आ
ये कैसी....

पुरुष ग्रंथि (प्रोस्टेट) बढ़ने से मूत्र - बाधा का अचूक इलाज 

*किडनी फेल(गुर्दे खराब ) रोग की जानकारी और उपचार*

गठिया ,घुटनों का दर्द,कमर दर्द ,सायटिका के अचूक उपचार 

गुर्दे की पथरी कितनी भी बड़ी हो ,अचूक हर्बल औषधि

पित्त पथरी (gallstone) की अचूक औषधि 


30/3/16

मन धीरे धीरे गाये //TALAT MAHMOOD & SURAIYA - Man dheere dheere gaye MAALIK

मन धीरे धीरे  गाये
 Man dheere dheere gaye
तलत महमूद,
talat mahmood
film - malik
1958,

गाना 
मन धीरे धीरे गाये रे
मालूम नहीं क्यों
बिन गाये रहा न जाये रे
मालूम नहीं क्यों

पलकों में छुपा कर गोरी
लाई है मिलन की डोरी
अब साथ है जीवन भर का
लो थाम लो बैंया मोरी
इक बात ज़ुबाँ पर आये रे
मालूम नहीं क्यों

आशाओं ने ली अंगड़ाई
तन मन में बजी शहनाई
दिल डूब गया मस्ती में
इक लहर खुशी की छाई
दिल हाथ से निकला जाये रे
मालूम नहीं क्यों
पुरुष ग्रंथि (प्रोस्टेट) बढ़ने से मूत्र - बाधा का अचूक इलाज 

*किडनी फेल(गुर्दे खराब ) रोग की जानकारी और उपचार*

गठिया ,घुटनों का दर्द,कमर दर्द ,सायटिका के अचूक उपचार 

गुर्दे की पथरी कितनी भी बड़ी हो ,अचूक हर्बल औषधि

दिल ए नादान तुझे हुआ क्या है // dil e nadan tujhe hua kya hai..mirza ghalib -talat-suraiya

 दिल ए नादान तुझे हुआ क्या है,
talat mahmood,,
film mirza ghalib,
dil e nadan tujhe hua kya hai.
 suraiya
1954 
              गाना 
दिल-ए-नादाँ तुझे हुआ क्या है
आख़िर इस दर्द की दवा क्या है?

हमको उनसे वफ़ा की है उम्मीद
जो नहीं जानते वफ़ा क्या है।

हम हैं मुश्ताक़ और वो बेज़ार
या इलाही ये माजरा क्या है।
जब कि तुझ बिन नहीं कोई मौजूद
फिर ये हंगामा ऐ ख़ुदा क्या है।

जान तुम पर निसार करता हूँ
मैंने नहीं जानता दुआ क्या है। 

पुरुष ग्रंथि (प्रोस्टेट) बढ़ने से मूत्र - बाधा  का  अचूक  इलाज 

*किडनी फेल(गुर्दे खराब ) रोग की जानकारी और उपचार*

गठिया ,घुटनों का दर्द,कमर दर्द ,सायटिका  के अचूक उपचार 

गुर्दे की पथरी कितनी भी बड़ी हो ,अचूक हर्बल औषधि

पित्त पथरी (gallstone)  की अचूक औषधि 


---------------

9/3/16

तू मेरा चाँद मैं तेरी चाँदनी// tu mera chand main teri chandani..suraiya- shyam -geeta dutt-Naushad-dil...


तू मेरा चाँद मैं तेरी चाँदनी

tu mera chand main teri chandani.
.Singer suraiya- shyam -geeta dutt
गीतकार : शकिल बदायुनी,
 गायक : श्याम - सुरैया,
सगीतकार : नौशाद,
 Lyricist : Shakeel Badayuni,
Singer : Shyam - Suraiya,
Music Director : Naushad,
Movie : Dillagi 
1949
      गाना 
तू मेरा चाँद मैं तेरी चाँदनी मैं तेरा राग तू मेरी रागिनी ओ, नहीं दिल क लगाना कोई दिल्लगि, कोई दिल्लगि साथ ही जीना साथ ही मरना उल्फ़त की है रीत, हाँ, उल्फ़त की है रीत तू मेरा चाँद मैं तेरी चाँदनी प्यार की मुरली हरदम गाये तेरी लगन के गीतमैं तेरा राग तू मेरी रागिनी जब तक चमके चाँद सितारे, देखो छूटे न साथओ, नहीं दिल क लगाना ... भूल न जाना रुत ये सुहानी ये दिन और ये रात, हाँ, ये दिन और ये राततू मेरा चाँद मैं तेरी चाँदनी ओ, नहीं दिल क लगाना मैं तेरा राग तू मेरी रागिनी

*किडनी फेल(गुर्दे खराब ) रोग की जानकारी और उपचार*

गठिया ,घुटनों का दर्द,कमर दर्द ,सायटिका के अचूक उपचार 

गुर्दे की पथरी कितनी भी बड़ी हो ,अचूक हर्बल औषधि

पित्त पथरी (gallstone) की अचूक औषधि 


वो पास रहे या दूर रहें नजरों मे समाये रहते हैं// Woh pass rahain ya durr....Bari Behan

 वो पास रहे या दूर रहें नजरों मे 
 Film: Badi Behan
  Music Director: Husnlal-Bhagatram
  Lyricist: Qamar Jalalabadi
  Singer  Suraiyya

                 गाना


वो पास रहें या दूर रहें नज़रों में समाये रहते हैं
 इतना तो बता दे कोई हमें क्या प्यार इसी को कहते हैं 
छोटी सी बात मुहब्बत की और वो भी कही नहीं जाती 
कुछ वो शरमाये रहते हैं कुछ हम शरमाये रहते हैं 
मिलने की घड़ियाँ छोटी हैं और रात जुदाई की लम्बी

 जब सारी दुनिया सोती है हम तारे गिनते रहते हैं 
वो पास रहें या दूर रहें नज़रों में समाये रहते हैं